Wednesday, November 21, 2018

Breaking News

   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||

एसआईटी करेगी प्रदेश में हुए छात्रवृत्ति घोटाले की जांच, सरकार ने दिए आदेश 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एसआईटी करेगी प्रदेश में हुए छात्रवृत्ति घोटाले की जांच, सरकार ने दिए आदेश 

देहरादून। राज्य में हुए बहुचर्चित छात्रवृत्ति घोटाले की जांच अब एसआईटी करेगी। प्रदेश सरकार ने समाज कल्याण विभाग में हुए इस घोटाले के लिए पुलिस के नेतृत्व में चार सदस्यीय एसआईटी गठित करने को कहा है। इस टीम में पुलिस के साथ ही तकनीकी शिक्षा, उच्च शिक्षा व समाज कल्याण विभाग के अधिकारी भी शामिल किए जाएंगे। बता दें कि छात्रवृत्ति घोटाले की रकम 100 करोड़ तक पहुंचने की आशंका है। 

ये भी पढ़ें - नौजवानों के लिए अच्छी खबर, जल्द शुरू होगी होम गार्डस जवानों की भर्ती

गौरतलब है कि राज्य में शैक्षिक सत्र 2012-13 से लेकर 2014-15 के बीच सहारनपुर के कई निजी कॉलेजों ने हरिद्वार, दून के छात्रों का आईटीआई, पॉलिटेक्निक एवं बीटेक में दाखिला दिखाकर इन कॉलेजों ने छात्रवृत्ति हड़प ली। इसके बाद तत्कालीन अपर सचिव वी.षणमुगम की जांच में तमाम फर्जी दाखिले होने की पुष्टि हुई। जांच में घोटाले की रकम 100 करोड़ तक पहुंचने की आशंका के बाद विभाग ने शासन को एसआईटी जांच के लिए लिखा था। 


विभाग के अनुरोध के बाद अब सरकार ने छात्रवृत्ति घोटाले की जांच एसआईटी से कराने का फैसला लिया है। अपर सचिव, अजय रौतेला ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय से एसआईटी जांच के आदेश मिल गए हैं। पुलिस के नेतृत्व में होने वाली इस जांच में 3 अन्य विभाग भी शामिल किए गए हैं। अब संबंधित विभागों को जांच दल में शामिल किए जाने के लिए अधिकारियों के नाम मांगे गए हैं।  

Todays Beets: