Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

नियम विरूद्ध तरीके नौकरी पाने ‘पीयूष अग्रवाल’ ने दिया इस्तीफा, 3 इंजीनियरों की नियुक्ति भी निरस्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नियम विरूद्ध तरीके नौकरी पाने ‘पीयूष अग्रवाल’ ने दिया इस्तीफा, 3 इंजीनियरों की नियुक्ति भी निरस्त

देहरादून। उपनल के जरिए नियम विरूद्ध तरीके से नौकरी पाने वाले उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष के बेटे पीयूष अग्रवाल की खबर पर मचे बवाल के बाद उन्होंने जल संस्थान के एई के पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही 3 अन्य इंजीनियरों की नियुक्ति को भी निरस्त कर दिया गया है। यहां बता दें कि विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने बेटे की भर्ती पर कहा कि उससे उनका कोई लेना-देना नहीं है। उनके बेटे को योग्यता के आधार पर नौकरी दी गई थी। गौर करने वाली बात है कि मामला तूल पकड़ने पर उपनल के एमडी ने जांच की बात कही थी।

ये भी पढ़ें - भारत बंद के मद्देनजर देहरादून में धारा 144 लागू, चंपावत में भी पुलिस तैनात

गौरतलब है कि उपनल के एमडी ने कहा है कि साल 2016 के बाद हुई सभी नियुक्तियों की जांच कराई जाएगी। इसमें जो भी गलत पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। यहां बता दें कि उपनल के एमडी पाहवा ने बताया कि सैन्य परिवारों से योग्य अभ्यर्थी नहीं मिलने पर बाहर से अभ्यर्थियों को नियुक्त किया जा सकता है लेकिन प्रमुख सचिव ने वर्ष 2016 के जीओ को प्रभावी मानते हुए उनका तर्क खारिज कर दिया। इस जीओ के जरिए सरकार ने उपनल से गैरसैनिक लोगों की नियुक्ति प्रतिबंधित कर दी थी।


यहां गौर करने वाली बात है कि उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के बेटे को उपनल के जरिए की जाने वाली नियुक्तियों के तहत जल संस्थान में एई की नौकरी दी गई थी जबकि उपनल के नियमों के अनुसार इस माध्यम से गैर सैनिक पृष्ठभूमि वाले व्यक्तियों को नौकरी नहीं दी जा सकती है। हल्द्वानी के रहने वाले एक शख्स के द्वारा मामला उठाने पर यह मामला सामने आया। उन्होंने कहा कि पीयूष और 3 अन्य इंजीनियरों को नियुक्ति दी गई थी और इसकी कोई सूचना भी नहीं दी गई। मामला के काफी तूल पकड़ने के बाद अब पीयूष अग्रवाल ने जल संस्थान में एई पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही तीनों इंजीनियरों की नियुक्ति को भी निरस्त कर दिया गया है। 

 

Todays Beets: