Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

गंगोलीहाट के गोपाल सिंह ने सेवानिवृत्ति से पहले दी शहादत, मंत्री ने परिजनों को बंधाया ढाढ़स

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गंगोलीहाट के गोपाल सिंह ने सेवानिवृत्ति से पहले दी शहादत, मंत्री ने परिजनों को बंधाया ढाढ़स

देहरादून। नए साल में देश की सीमा की रक्षा करते हुए उत्तराखंड के एक और लाल ने अपनी शहादत दी है। पिथौरागढ़ के उदयनगर गांव के रहने वाले गोपाल सिंह मेहरा नागालैंड में बुधवार की सुबह आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए। उनका पार्थिव शरीर गुरुवार शाम तक पिथौरागढ़ पहुंचने की संभावना है। गोपाल सिंह मेहरा 24 असम राइफल्स में हवलदार के पद तैनात थे। शहादत की खबर मिलते ही उनके घर पर सांत्वना और श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगना शुरू हो गया है। 

गौरतलब है कि गोपाल सिंह मेहरा मूल रूप से पिथौरागढ़ के गंगोलीहाट के रहने वाले हैं लेकिन 5 साल पहले उनका परिवार उदयनगर गांव में आकर रहने लगा। वर्तमान में वे नागालैंड में तैनात थे। बुधवार तड़के 4 बजे लोबरा के पास आतंकियों से हुई मुठभेड़ में गोली लगने से गोपाल सिंह शहीद हो गए। गोपाल सिंह के बड़े भाई निर्मल सिंह भी असम राइफल्स (नगालैंड) में ही तैनात हैं। निर्मल सिंह ने ही घरवालों को उनकी शहादत की खबर दी। 

ये भी पढ़ें - नए साल में पेंशनधारकों की हो जाएगी बल्ले-बल्ले, सरकार ने लिया बड़ा फैसला


यहां बता दें कि गोपाल सिंह के परिवार में उनकी पत्नी के अलावा एक 17 वर्षीय पुत्र सौरभ और 14 वर्षीय पुत्री हिमानी हैं। सौरभ दिनेशपुर में पॉलिटेक्निक काॅलेज का छात्र है जबकि हिमानी सरस्वती शिशु मंदिर कालीनगर में कक्षा 9 में पढ़ती है। परिवार वालों से मिली जानकारी के अनुसार गोपाल सिंह एक साल के बाद ही सेवानिवृत्त होने वाले थे। सूचना मिलने पर शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने भी शहीद के घर जाकर शोक संवेदना जताई और परिजनों को ढाढ़स बंधाया है। 

 

Todays Beets: