Saturday, February 16, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

पूर्व मुख्यमंत्री को काला झंडा दिखाना पड़ा महंगा, भाजपा के युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष भेजे गए जेल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पूर्व मुख्यमंत्री को काला झंडा दिखाना पड़ा महंगा, भाजपा के युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष भेजे गए जेल

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को काले झंडे दिखाने और पुलिसकर्मियों से हाथापाई के मामले में कालाढूंगी से भाजपा विधायक बंशीधर भगत के बेटे विकास भगत और उनके साथी गौरव जोशी ने एसीजेएम मुकेश चंद्र आर्या की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज करते हुए न्यायिक हिरासत में लेते हुए जेल भेज दिया है। बता दें कि विकास भगत भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष भी हैं। 

गौरतलब है कि 18 दिसंबर 2016 को जब तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत गौलापार में स्टेडियम का उद्घाटन करने आए थे उस समय विकास भगत ने अपने साथियों के साथ मिलकर उन्हें काले झंडे दिखाए थे। पुलिस द्वारा ऐसा करने से रोकने पर उन्होंने पुलिस के साथ हाथापाई भी की। इसके बाद काठगोदाम पुलिस ने विकास और उसके दोस्त के खिलाफ धारा 147 और 353 के तहत मुकदमा दर्ज किया था।

ये भी पढ़ें - आखिरकार शिक्षकों पर मेहरबान हुए शिक्षा मंत्री, मांगों पर कार्रवाई के दिए निर्देश


यहां बता दें कि धारा 353 गैर जमानती है ऐसेे में अदालत में उपस्थित नहीं होने पर गैरजमानती वारंट जारी हो गया। बुधवार को दोनों अदालत में पेश हुए, हालांकि कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका को खारिज करते हुए उन्हें जेल भेज दिया। बेटे की सजा के मामले में विधायक बंशीधर भगत का कहना है कि विकास की गिरफ्तारी राजनीतिक कारणों से हुई है। गुरुवार को जिला जज की अदालत में जमानत की अर्जी लगाई जाएगी। 

Todays Beets: