Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

नैनीताल के ‘दीवान नाथ’ ने देश रक्षा में दिया सर्वोच्च बलिदान, मेघालय में उग्रवादियों से मुठभेड़ में हुए शहीद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नैनीताल के ‘दीवान नाथ’ ने देश रक्षा में दिया सर्वोच्च बलिदान, मेघालय में उग्रवादियों से मुठभेड़ में हुए शहीद

नैनीताल। उत्तराखंड के एक और जवान ने देश की रक्षा में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। नैनीताल के छोई गांव के रहने वाले दीवान नाथ गोस्वामी ने अपनी नौकरी के आखिरी वक्त में भी देश की रक्षा में अपनी शहादत देकर अपना नाम अमर कर दिया। बताया जा रहा है कि 46 वर्षीय दीवान नाथ बीएसएफ की 141वीं बटालियन में जीडी/ड्राइवर पद पर तैनात थे और 4 महीने के बाद ही वे सेवानिवृत्त होने वाले थे। उन्होंने वीआरएस के लिए आवेदन दिया था। उनकी शहादत की खबर मिलते ही उनके घर पर मातम का माहौल पसर गया है और बड़ी संख्या में परिवारवालों को सांत्वना देने पहुंच रहे हैं। 

गौरतलब है है कि दीवान नाथ गोस्वामी के अपनी छुट्टियां बिताकर 8 जुलाई को ही अपनी ड्यूटी पर लौटे थे। खबरों के अनुसार उनका पार्थिव शरीर सोमवार शाम तक उनके घर पर पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। हालांकि एसडीएम परितोष वर्मा का कहना है कि उनके पास दीवान नाथ की शहादत की जानकारी नहीं है लेकिन खबरों की तस्दीक के लिए पटवारी को गांव में भेजा गया है। 

ये भी पढ़ें - शिक्षा विभाग में नहीं होगी काउंसलिंग, विकल्प और वरिष्ठता के आधार पर मिलेगी नियुक्ति


यहां बता दें कि शनिवार रात को घरवालों को मिली सूचना के अनुसार उनके पैर में गोली लगी है और उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। रविवार को दोबारा जानकारी लेने पर पता चला कि उनका इलाज किया जा रहा है। लखनऊ में रहने वाले दीवान नाथ के बहनोई ने जानकारी जुटाई तो पता चला कि वे शहीद हो चुके हैं। बाद में मेघालय के कमांडेंट ने भी फोन पर उनके शहीद होने की खबर दी। इस खबर को सुनते ही उनकी मां, पिता और पत्नी बदहवास हो गए। बता दें कि दीवान नाथ के घर पर उनकी पत्नी के अलावा उनकी 5 साल और 2 साल की दो बेटियां हैं। उनके बड़े भाई गोपाल नाथ गोस्वामी कुमाऊं विश्वविद्यालय नैनीताल में कार्यरत हैं जबकि छोटा भाई विजय नाथ गोस्वामी उत्तराखंड पुलिस में है और वर्तमान में अल्मोड़ा कोतवाली में तैनात है।

 

Todays Beets: