Wednesday, January 24, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अब महज 30 मिनट में पहुंच सकेंगे गौरीकुंड से केदारनाथ, रोपवे प्रोजेक्ट को शासन से मंजूरी का इंतजार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब महज 30 मिनट में पहुंच सकेंगे गौरीकुंड से केदारनाथ, रोपवे प्रोजेक्ट को शासन से मंजूरी का इंतजार

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ को फिर से बसाने की कवायद तेज कर दी गई है। ऐसे में यहां गौरीकुंड से केदारनाथ के बीच रोपवे के काम का भी सर्वे पूरा कर लिया गया है। ऐसे में रोपवे तैयार होने से श्रद्धालुओं के समय और पैसे दोनांे की बचत होगी। बता दें कि केदारनाथ का पुनर्निर्माण प्रधानमंत्री के महत्वाकांक्षी योजनाओं में शामिल है।

यात्रियों के समय और पैसों की बचत

गौरतलब है कि रोपवे बनने से केदारनाथ और गौरीकुंड की दूरी घटकर 9 किलोमीटर रह जाएगी। इसके निर्माण से यात्रा न केवल आसान हो जाएगी बल्कि यात्रा के खर्चे में भी कमी आएगी। पैदल यात्रा में आमतौर पर छह से सात घंटे लगते हैं, जबकि रोपवे से यह दूरी मात्र 30 मिनट में तय की जा सकेगी। बता दें कि गौरीकुंड से केदारनाथ की पैदल दूरी करीब 16 किलोमीटर है। इसके लिए वहां जाने वाले श्रद्धालुओं को करीब 6 से 7 हजार रुपये खर्च करने पड़ते थे लेकिन रोपवे के निर्माण के बाद उन्हें पैसों की भी काफी बचत होगी। 

ये भी पढ़ें - ट्रिप रिले की खरीद में यूपीसीएल में गड़बड़झाले की आशंका, निदेशक ने बैठाई जांच


मंजूरी का इंतजार

आपको बता दें कि समुद्र तल से करीब साढ़े 11 हजार फीट की ऊंचाई पर बसे केदारनाथ तक पहुंचने के लिए हेली सेवाओं की सुविधा तो है लेकिन हर श्रद्धालु के लिए इसका उपयोग करना मुमकिन नहीं है। ऐसे में रोपवे बन जाने से साधारण यात्रियों को भी काफी फायदा होगा। यहां बता दें कि पहले भी सरकार रोपवे का निर्माण पीपीपी मोड में करना चाहती थी, मगर कंपनियों ने रुचि नहीं दिखाई। इस पर सरकार ने स्वयं ही यह जिम्मेदारी उठाने का निर्णय लिया। अब रोपवे निर्माण उत्तराखंड सरकार का उपक्रम ब्रिज रोपवे, टनल एंड अदर इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलेपमेंट काॅरपोरेशन को सौंपा गया है। शासन को इसकी रिपोर्ट भेज दी गई है वहां से मंजूरी मिलते ही इसपर काम शुरू कर दिया जाएगा।

Todays Beets: