Wednesday, January 17, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

गणतंत्र दिवस परेड- 2018- राजपथ पर नजर आएगी उत्तराखंड की झांकी, विशेषज्ञ समिति ने ‘ग्रामीण पर्यटन' पर लगाई अपनी मुहर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गणतंत्र दिवस परेड- 2018- राजपथ पर नजर आएगी उत्तराखंड की झांकी, विशेषज्ञ समिति ने ‘ग्रामीण पर्यटन

देहरादून । इस बार गणतंत्र दिवस परेड- 2018 के दौरान राजपथ पर उत्तराखण्ड राज्य की झांकी नजर आएगी। प्रदेश की झांकी ‘ग्रामीण पर्यटन' पर रक्षा मंत्रालय ने अपनी बैठक में अंतिम मुहर लगा दी है। महानिदेशक सूचना डॉ पंकज कुमार पाण्डेय ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि रक्षा मंत्रालय भारत सरकार के अधीन गठित विशेषज्ञ समिति के  सामने इस बार 30 राज्यों और 20 मंत्रालयों ने अपने प्रस्ताव रखे थे, जिसमें से 14 राज्यऔर 07 मंत्रालयों की झांकियों पर मुहर लगी है। विशेषज्ञ समिति ने इस दौरान उत्तराखंड की ग्रामीण पर्यटन की झांकी पर अपनी मुहर लगा दी है। 

ये भी पढ़ें- बिना टीईटी वाले शिक्षा मित्रों को मिल सकती है राहत, हाईकोर्ट ने दिए सरकार को पुनर्विचार करने ...

बता दें कि इस बार उत्तराखंड राज्य की झांकी के अग्र भाग में काष्ठ कला से निर्मित भवन व पयर्टकों का स्वागत करते हुए पारम्परिक वेशभूषा में महिला व पुरूषों को दर्शाया जाएगा। झांकी के मध्य भाग में पर्यटकों के साथ पारम्परिक नृत्य, ग्रामीण परिवेश, जैव विविधता तथा पर्यटकों का आवागमन व झांकी के पृष्ठ भाग में होम स्टे हेतु वास्तु शिल्प के भवन, योग-ध्यान व बर्फ से ढके पहाड़ को दर्शाया जाएगा। 

ये भी पढ़ें- राज्य की शिक्षा व्यवस्था में आएगा सुधार, अब छात्रों ही नहीं शिक्षकों का भी रिपोर्ट कार्ड होगा तैयार


महानिदेशक सूचना डॉ पाण्डेय ने बताया कि उत्तराखण्ड में ग्रामीण पर्यटन के विकास के लिए प्रभावी प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य के अनेक गांवों में होम-स्टे योजना संचालित की जा रही है। गांवों में अवसंरचना के विकास तथा पर्यटन को प्रोत्साहित करने के परिणाम उत्साहजनक हैं। इससे सामाजिक-आर्थिक विकास के साथ ही पलायन जैसी गंभीर समस्या से निपटने में भी मदद मिली है और रोजगार के नए व बेहतर अवसर प्राप्त हो रहे हैं।

ये भी पढ़ें- नौकरी दिलाने के नाम पर बड़ा फर्जीवाड़ा, बेचारे मजदूर अब बिना पैसे हो रहे परेशान

बता दें कि राज्य गठन से लेकर अभी तक उत्तराखण्ड द्वारा वर्ष 2003 में ‘फृलदेई‘, वर्ष 2005 में ‘नंदा राजजात, वर्ष 2006 में ‘फूलों की घाटी‘, वर्ष 2007 में ‘कार्बेट नेशनल पार्क, वर्ष 2009 में ‘साहसिक पर्यटन‘, वर्ष 2010 में ‘कुंभ मेला‘, वर्ष 2014 में ‘जड़ी-बूटी, वर्ष 2015 में ‘केदारनाथ‘ तथा वर्ष 2016 में ‘रम्माण‘ विषयों की झांकियों का प्रदर्शन राजपथ पर किया जा चुका है।

Todays Beets: