Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

राज्य में चरमरा सकती है स्वास्थ्य व्यवस्था, सरकारी अस्पतालों के 113 विशेषज्ञों ने किया कार्यबहिष्कार का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य में चरमरा सकती है स्वास्थ्य व्यवस्था, सरकारी अस्पतालों के 113 विशेषज्ञों ने किया कार्यबहिष्कार का ऐलान

देहरादून। राज्य में सोमवार से स्वास्थ्य व्यवस्था बिगड़ने वाली है। सरकारी अस्पतालों में तैनात करीब 113 विशेषज्ञों ने कार्य बहिष्कार का फैसला लिया है। इनमें रेडियोलाजिस्ट, एनेस्थेटिक, पैथोलाजिस्ट समेत तमाम अन्य विशेषज्ञ चिकित्सक शामिल हैं। इन डाॅक्टरों के कार्य बहिष्कार करने से मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। बता दें कि इन डाॅक्टरों ने उप्र के मेडिकल काॅलेजों से विशेषज्ञता हासिल की है और कई सालों से अस्पतालों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। अब सरकार इनके पीजी डिप्लोमा की वैधता पर सवाल उठा रहे हैं इससे उन्हें काफी नाराजगी है। 

गौरतलब है कि डाॅक्टरों का कहना है कि पीजी डिप्लोमा का कोर्स उन्हें सरकार ने ही कराया है। ऐसे में उन्हें इसके लिए उचित पैरवी करनी चाहिए। बता दें कि पिछले सालों में उत्तराखंड के डॉक्टरों को विशेषज्ञता हासिल करने के लिए उत्तर प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में पीजी सीटें आवंटित की गई है।  इस व्यवस्था के तहत अब तक कुल 113 डॉक्टर उत्तर प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों से पीजी डिप्लोमा चुके हैं जबकि 19 अभी भी अध्ययनरत हैं।

ये भी पढ़ें - नीति घाटी में बनी कृत्रिम झील से निचले इलाके के डूबने का खतरा, यूसैक ने सरकार को दी जानकारी


यहां बता दें कि इन डाॅक्टरों ने जिन काॅलेजों से पीजी किया उन काॅलेजों ने उन्हें गैर मान्यताप्राप्त वाली सीटों पर दाखिला दे दिया। ऐसे में अब उनकी डिग्री पर सवाल उठने लगे हैं। गौर करने वाली बात है कि अब राज्य में क्लीनिकल एस्टेब्लिशमेंट एक्ट लागू होने वाला है और आयुष्मान भारत योजना भी शुरू हो चुकी है। इनमें चिकित्सकों का विषय योग्यता में पंजीकरण आवश्यक रूप से दिखाना है। ऐसे में अब विशेषज्ञ डाॅक्टरों के कार्यबहिष्कार से लोगों की परेशानियों में इजाफा होने वाला है।   

Todays Beets: