Saturday, June 23, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

हाईकोर्ट ने राज्य आंदोलनकारियों को दिया बड़ा झटका, सरकारी नौकरियों में नहीं मिलेगा 10 फीसदी क्षैतिज आरक्षण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने राज्य आंदोलनकारियों को दिया बड़ा झटका, सरकारी नौकरियों में नहीं मिलेगा 10 फीसदी क्षैतिज आरक्षण

देहरादून। नैनीताल हाईकोर्ट ने उत्तराखंड के आंदोलनकारियों को एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने उन्हें सरकारी नौकरियों में क्षैतिज 10 फीसदी आरक्षण देने के फैसले को खारिज कर दिया है। बता दें कि इस मामले में हल्द्वानी के करुणेश जोशी द्वारा दायर  याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की एकलपीठ ने सरकार के इस प्रावधान को संविधान के अनुच्छेद 16(4) जोकि समानता की गारंटी देता है की भावना के विरुद्ध बताते हुए उसे रद्द कर दिया। इस मामले में एकलपीठ के सामने सभी पक्षकारों ने दलीलें प्रस्तुत कर दी थी।

 

गौरतलब है कि एकलपीठ ने जून 2017 में इस मामले में हुई सुनवाई का भी संज्ञान लिया। इसमें न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया के आरक्षण के खिलाफ दिए गए फैसले पर न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की एकलपीठ ने सहमति व्यक्त की और आरक्षण को गैर संवैधानिक बताया है। बता दें कि प्रदेश सरकार ने अगस्त 2004 में राज्य के आंदोलनकारियों को सरकारी नौकरी में 10 फीसदी आरक्षण देने का फैसला लिया था। इसमें प्रदेश में तृतीय व चतुर्थ श्रेणी में 10 प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण देने का प्रावधान किया गया। इसके तहत जिला स्तर पर पात्र राज्य आंदोलकारियों को नौकरियां भी दी गई। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश में यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों पर होगी पैनी नजर, सवा 6 करोड़ रुपये के प्रोजेक...


यहां बता दें कि हल्द्वानी के करुणेश जोशी ने इस मामले में हाईकोर्ट में मामला दर्ज कराया था। 2007 में दायर याचिका में उन्होंने कहा था कि राज्य आंदोलनकारी होने के बावजूद नैनीताल के डीएम उन्हें सरकारी विभाग में नियुक्ति नहीं दे रहे हैं लेकिन हाईकोर्ट की एकलपीठ ने इस याचिका को 11 मई 2010 को खारिज कर दिया। इस बीच सरकार ने 13 अप्रैल 2010 को आरक्षण को लेकर नई नियमावली बना दी। इसके बाद करुणेश ने दोबारा कोर्ट में रिव्यू पिटिशन डाला, अदालत ने इसे भी खारिज कर दिया लेकिन उसे इस बात की सलाह दी कि मामला की सुनवाई जनहित याचिका के तौर पर सुनवाई कर सकती है जिसे तत्कालीन चीफ जस्टिस न्यायमूर्ति बारिन घोष ने स्वीकार कर लिया था।

 

यहां गौर करने वाली बात है कि इस जनहित याचिका ‘द मेटर ऑफ अपायमेंट ऑफ एक्टिविस्ट’ नाम दिया गया। दूसरी ओर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव गृह समेत प्रदेश के सभी डीएम व राज्य आंदोलनकारी मंच को पार्टी बनाया गया। लंबी कानूनी लड़ाई के बाद न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की एकलपीठ ने इस पर अपना फैसला सुनाया है।  

Todays Beets: