Friday, November 17, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

राजकीय शिक्षक संघ भी उतरा शिक्षा मंत्री के विरोध में, सीएम से अरविंद पांडे को हटाने की मांग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजकीय शिक्षक संघ भी उतरा शिक्षा मंत्री के विरोध में, सीएम से अरविंद पांडे को हटाने की मांग

देहरादून। शिक्षिका के साथ अभद्रता वाले मामले ने तूल पकड़ना शुरू कर दिया है। अब  राजकीय शिक्षक संघ भी शिक्षा मंत्री के विरोध में उतर गया है। शिक्षक संघ ने इसके विरोध में सीईओ दफ्तर में प्रदर्शन किया और सांकेतिक धरना दिया। आज हिन्दी दिवस के मौके पर भी संघ ने काली पट्टी बांधकर मंत्री का विरोध करने का फैसला लिया है। शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से पांडे को हटाने की मांग की है। इससे पहले भी शिक्षकों ने अपना विरोध दर्ज कराया था। बाद में सोशल मीडिया पर तीखी टिप्पणी होने के बाद शिक्षा मंत्री ने यह बयान दिया था कि अगर उनकी बात गलत साबित होगी तो वे पद से इस्तीफा दे देंगे।

शिक्षक संघ मंत्री के खिलाफ

गौरतलब है कि जीआईसी थानो में निरीक्षण के दौरान शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने विज्ञान की शिक्षिका से एक सवाल पूछ लिया और गलत जवाब देने पर सबके सामने फटकार लगाई थी। इस बात से आक्रोशित माध्यमिक, जूनियर और बेसिक स्कूलों के शिक्षक राजकीय शिक्षक संघ के बैनर तले मुख्य शिक्षाधिकारी कार्यालय परिसर में एकत्र हुए और शिक्षा मंत्री के खिलाफ प्रदर्शन कर सांकेतिक धरना दिया। वक्ताओं का कहना था कि शिक्षा मंत्री शिक्षकों का उत्पीड़न कर रहे हैं। जीआईसी थानो में शिक्षक-शिक्षिकाओं के साथ मंत्री ने अभद्रता की है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

ये भी पढ़ें - कैंसर से पीड़ित टाॅम अल्टर सैफी अस्पताल में भर्ती, मसूरी में छाया उदासी का माहौल


मंत्री को हटाने की मांग

आपको बता दें कि शिक्षकों ने आज हिन्दी दिवस के मौके पर हाथों पर काली पट्टी बांधकर मंत्री का विरोध करने का फैसला लिया है। शिक्षक संघ ने सीईओ के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर अरविंद पांडे को हटाने की मांग की है। इसके साथ ही शिक्षकों ने इस बात की भी चेतावनी दी है कि अगर इस पर कोई कार्रवाई नहीं होती है तो वे आंदोलन करेंगे।  यहां यह भी बता दें कि शिक्षा मंत्री अपनी सफाई में कह चुके हैं कि वे स्कूल की इज्जत बचाने के कोशिश कर रहे थे। शिक्षिका को डांटने का मकसद शिक्षा व्यवस्था को सुधारना था। मंत्री ने यहां तक कहा कि अगर उनकी बात गलत साबित होती है वे इस्तीफा दे देंगे। 

 

Todays Beets: