Sunday, October 21, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

अब मोबाइल एप बताएगा राज्य में बाघों की संख्या, फरवरी से शुरू होगी गिनती 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब मोबाइल एप बताएगा राज्य में बाघों की संख्या, फरवरी से शुरू होगी गिनती 

देहरादून। अखिल भारतीय बाघ आकलन-2018 के तहत उत्तराखंड में पहली बार बाघों की गिनती मोबाइल एप एम स्ट्राइप एप’ के जरिए की जाएगी। साथ ही 14 हजार फुट की ऊंचाई तक उन हिमालयी क्षेत्रों में भी बाघ गिने जाएंगे, जहां इनकी मौजूदगी के प्रमाण मिले हैं। बता दें कि बाघों की गिनती के प्रथम चरण में फरवरी के पहले हफ्ते से कार्बेट और राजाजी टाइगर रिजर्व के साथ ही 12 वन प्रभागों में गणना कार्य शुरू किया जाएगा।  

मोबाइल एप से मिलेगी जानकारी 

गौरतलब है कि राज्य में बाघों की गिनती का काम शुरू कर दिया गया है। अपर प्रमुख मुख्य वन संरक्षक वन्यजीव एवं बाघ गणना के नोडल अधिकारी डॉ.धनंजय मोहन के मुताबिक इस बार बाघ गणना से संबंधित आंकड़े जुटाने को विशेष तौर पर तैयार किए गए ‘एम स्ट्राइप एप’ का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके लिए तैयारी पूरी कर ली गई है। इस एप के लिए गणना करने वालों को एक कोड दिया जाएगा जिसके जरिए वे बाघों के बारे में जानकारी भरने में आसानी होगी। उन्होंने कहा कि कोशिश ये है कि अधिकांश क्षेत्रों में इस एप का इस्तेमाल किया जाए।

ये भी पढ़ें - मातृसदन ने जिला प्रशासन के बीच विवाद गहराया, डीएम दीपक रावत और उनके गनर के खिलाफ कोर्ट में दा...

ऊंचाई वाले इलाके में भी होगी गिनती


आपको बता दें कि राज्य के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में भी बाघों की गणना की जाएगी जहां इसके प्रमाण मिले हैं। डाॅक्टर धनंजय ने बताया कि गणना प्रक्रिया के लिए करीब 22 मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षण देने का काम पूरा किया जा चुका है। यह प्रशिक्षण बिहार के वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में दिया गया। अब ये मास्टर ट्रेनर देहरादून, कालागढ़ और हल्द्वानी में कार्मिकों को ट्रेनिंग देंगे जिसमें रेंजर, एसडीओ, डीएफओ शामिल रहेंगे। इसके बार रेंजर के माध्यम से वन रक्षक स्तर पर प्रशिक्षण दिया जाएगा। यह कार्य इसी माह पूरा कर लिया जाएगा।

पहले चरण में काॅर्बेट और राजाजी के बाघों की गिनती

यहां बता दें कि फरवरी में जिम काॅर्बेट और राजाजी पार्क में बाघों की गणना का काम शुरू कर दिया जाएगा। इसके बाद अन्य क्षेत्रों में बाघों की गणना का काम शुरू कर दिया जाएगा। 

Todays Beets: