Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में हो रही पत्थरों की बरसात, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में हो रही पत्थरों की बरसात, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया

देहरादून। उत्तराखंड के कुछ इलाकों में इन दिनों बेमौसम भूस्खलन का सिलसिला जारी है। इसकी चपेट में आए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा है। बताया जा रहा है कि अभी बागेश्वर जिले के कुंवारी गांव में लगातार पत्थरों के गिरने का सिलसिला जारी है। यहां फंसे लोगों को सुरक्षित टेंटों में पहुंचा दिया गया है और उन्हें खाने का सामान भी मुहैया करा दिया गया है।  

खास बात यह है कि पिछले दिनों चमोली के गांव में भी पहाड़ों से पत्थर गिरने के चलते 2 मकान बुरी तरह से दब गए और कई मकानों में मलबा घुस गया था। पहाड़ों से मलबा गिरने से किसानों की फसलों को भी काफी नुकसान हुआ है। बड़ी बात यह है कि सरकार की तरफ से भले ही सीमांत गांवों तक इंटरनेट की सुविधा पहुंचाने की बात कर रहे हों लेकिन चमोली के गांव में हुए भूस्खलन की खबर 2 दिनों की देरी से मिली थी। फिलहाल कुंवारी गांव में आपदा प्रभावित परिवारों के लिए खाद्यान्न सहित सभी जरूरी सामान पहुंचा दिया है।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड के अंदरूनी इलाके में मेट्रो के बजाय दौड़ेगी मिनी मेट्रो, जर्मन बैंक करेगा मदद


गौरतलब है कि कपकोट तहसील मुख्यालय से लगभग 95 किमी की दूरी पर स्थित कुंवारी गांव में 10 मार्च की शाम एकाएक भूस्खलन हो गया था। क्षेत्र के हालात जानने के लिए मौके पर जिलाधिकारी को भी भेज गया था लेकिन वहां से लौटने के बाद उन्होंने जो जानकारी दी है वह हैरान करने वाली है। डीएम के अनुसार 2015 में बैकुनीधार में शिफ्ट किए गए लोगों की स्थिति भी चिंताजनक है। बताया जा रहा है कि पत्थर गिरने की घटना शुरू होते ही करीब 16 परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया था लेकिन अब लगातार पत्थर गिरने से सभी 30 परिवारों को वहां से शिफ्ट कर दिया गया है। 

एसडीएम बताया कि पूरा नया और पुराना कुंवारी गांव खतरे में है। वहां के खेतों में भी बड़ी-बड़ी दरारें आ गई हैं। ऊपरी पहाड़ी से बिना रुके पत्थरों की बरसात हो रही है जबकि नीचे की ओर से जमीन धंस रही हैं। उन्होंने बताया कि इससे लगे चमोली जिले के देवाल क्षेत्र के झलिया गांव में भी यही स्थिति है।

Todays Beets: