Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

प्राध्यापकों के तबादले से नाराज छात्रों ने महाविद्यालय में की तालाबंदी, शुरू किया अनिश्चितकालीन धरना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्राध्यापकों के तबादले से नाराज छात्रों ने महाविद्यालय में की तालाबंदी, शुरू किया अनिश्चितकालीन धरना

उत्तरकाशी। उत्तरकाशी की राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के छात्रों और पदाधिकारियों ने प्राध्यापकों के तबादले पर महाविद्यालय में तालाबंदी कर दी है। बताया जा रहा है कि महाविद्यालय में पहले ही प्राध्यापकों की कमी है और ऐसे में उनके भी तबादले से छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो जाएगा। ऐसे में महाविद्यालय के छात्रों और पदाधिकारियों के द्वारा इसका विरोध करते हुए काॅलेज के गेट पर ही अनिश्चितकालीन के लिए ताला जड़ दिया है और धरने पर बैठ गए हैं।

गौरतलब है कि यहां पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का कहना है कि महाविद्यालय में पहले से ही प्राध्यापकों के 13 पद रिक्त हैं। वहीं जो शिक्षक कार्यरत हैं उनका भी स्थानांतरण कर दिया, लेकिन उनके बदले किसी प्राध्यापकों को भेजा नहीं गया है। इसके बाद छात्रों ने यहां सेवारत प्राध्यापकों के तबादले को निरस्त करने का अनुरोध किया। ऐसा नहीं होने पर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में अध्ययनरत सभी छात्र-छात्रा छात्रसंघ के अध्यक्ष आदित्य चैहान के नेतृत्व में महाविद्यालय पहुंचकर शिक्षकों के तबादले के बदले दूसरे शिक्षकों को नहीं भेजने पर महाविद्यालय के गेट पर तालाबंदी कर धरने पर बैठ गए । 

ये भी पढ़ें - मैंने राजनीति को कभी करियर नहीं माना, मेरे लिए राजनीति जनसेवा का एक माध्यम – सीएम त्रिवेंद्र रावत


यहां बता दें कि उच्च शिक्षा निदेशालय की ओर से उन्हें यह आश्वासन दिया गया था कि नए प्राध्यापकों की नियुक्ति होने के बाद ही काॅलेजह से शिक्षकों को कार्यमुक्त किया जाएगा। अब नए प्राध्यापकों को बिना यहां भेजे ही इनका तबादला कर दिया गया।  

Todays Beets: