Wednesday, March 27, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

मेडिकल काॅलेज बनने के लायक ही नहीं सुभारती काॅलेज, शासन को भेजी रिपोर्ट में खुलासा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मेडिकल काॅलेज बनने के लायक ही नहीं सुभारती काॅलेज, शासन को भेजी रिपोर्ट में खुलासा

देहरादून। उत्तराखंड के सुभारती मेडिकल काॅलेज की खराब स्थिति और बुनियादी सुविधाओं के अभाव पर हेमवती नंदन बहुगुणा चिकित्सा विश्वविद्यालय ने निरीक्षण के बाद अपनी रिपोर्ट शासन को भेज दी है। बता दें कि एचएनबी मेडिकल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर हेमचंद्र की अध्यक्षता में एक समिति ने सुभारती मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण किया था। बताया जा रहा है कि रिपोर्ट में काॅलेज में जिस स्तर की कमियों का उल्लेख किया गया है उसे ठीक करने में सरकार को 2 से 3 साल का समय लग सकता है। ऐसे में यहां शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों के भविष्य पर तलवार लटक गया है।

गौरतलब है कि सुभारती मेडिकल काॅलेज के छात्रों ने सुविधाओं की कमी को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। पिछले महीने की कोर्ट ने राज्य सरकार को सुभारती मेडिकल काॅलेज का अधिग्रहण करने का आदेश दिया था। इसके साथ ही सरकार ने कहा था कि वह काॅलेज में सभी सुविधाओं को ठीक करेगी। हेमवती नंदन बहुगुणा चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति की अध्यक्षता में एक टीम ने काॅलेज का निरीक्षण किया था। 

ये भी पढ़ें -टनकपुर की मेघा राष्ट्रीय स्तर पर चुनी जाने वाली पहली महिला भारोत्तोलक, खेलो इंडिया खेलो में द...


यहां बता दें कि निरीक्षण के बाद शासन को भेजी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि काॅलेज में जिस स्तर की सुविधा उपलब्ध है उसमें तो उसे मेडिकल काॅलेज कहना ही नहीं चाहिए। रिपोर्ट में कहा गया है कि मेडिकल काउंसिल आॅफ इंडिया (एमसीआई) के मानकों के अनुसार मेडिकल काॅलेज में दी जाने वाली सुविधाओं को पूरा करने में सरकार को 2 से 3 साल का समय लग सकता है। अब जब तक सुभारती मेडिकल काॅलेज को एमसीआई की मान्यता नहीं मिलेगी तब तक कॉलेज को एचएनबी मेडिकल विश्वविद्यालय से संबद्धता नहीं मिलेगी। ऐसे में यहां शिक्षा हासिल कर रहे छात्रों के भविष्य पर संकट के बादल मंडरा सकते हैं।  

Todays Beets: