Monday, July 16, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

देहरादून में अतिक्रमण हटाओ अभियान पर व्यापारियों को मिली ‘सुप्रीम’ राहत, एक बार फिर से होगी सुनवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
देहरादून में अतिक्रमण हटाओ अभियान पर व्यापारियों को मिली ‘सुप्रीम’ राहत, एक बार फिर से होगी सुनवाई

देहरादून। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अतिक्रमण हटाओ कार्यक्रम के तहत किए जा रहे तोड़-फोड़ अतिक्रकमण करने वालों को सुप्रीम कोर्ट से राहत मिल गई है। इसके तहत सर्वोच्च न्यायालय ने हाईकोर्ट के आदेश को संशोधित करने के बाद पुराने आदेश पर नोटिस भेजकर फिर से सुनवाई करने की बात कही है। यहां बता दें कि देहरादून में किए जा रहे अतिक्रमण को देखते हुए हाईकोर्ट ने 18 जून 2018 को आदेश जारी कर 4 हफ्तों के अंदर हटाने का आदेश दिया था, ऐसा नहीं होने पर इसके लिए सीधे तौर पर मुख्य सचिव को जिम्मेदार ठहराया जाएगा। 

गौरतलब है कि 18 जून 2018 को एक जनहित याचिका पर उच्च न्यायालय नैनीताल ने अतिक्रमण हटाने के आदेश जारी किए थे। उच्च न्यायालय ने कहा था कि अगर देहरादून की सड़कों 4 सप्ताह के भीतर अतिक्रमण नहीं हटाया गया तो मुख्य सचिव इसके लिए व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होंगे। राजधानी को 4 जोन में बांटकर 28 जून से अतिक्रमण हटाने का अभियान शुरू हो गया था। अतिक्रमण हटाने के लिए नगर निगम, एमडीडीए सहित सभी विभागों की टीम बनाई गई थी। 

ये भी पढ़ें - राज्य के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक से कांग्रेसी विधायक गायब, विधायक ने लगाई सीएम पर सवालो...


इस बीच दून की रहने वाली सुनीता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर अतिक्रमण पर रोक लगाने की मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एम ए खानविल्कर की पीठ से इस मामले पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के आदेश को संशोधित करते हुए अतिक्रमण पर यथास्थिति बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अतिक्रमणकारियों की प्राकृतिक स्थिति को बनाए  रखने के लिए उन्हें भी सुनवाई का मौका दिया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद देहरादून नगर निगम के चेयरमैन ने फिर से एक कमेटी गठन की बात कही है। कमेटी सभी जोन से रिपोर्ट मांगेगी। इसके बाद ही वहां अतिक्रमण का कार्यक्रम शुरू किया जाएगा।  

Todays Beets: