Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

उत्तराखंड सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, गंगा में खनन पर रोक बरकरार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, गंगा में खनन पर रोक बरकरार

देहरादून। सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड सरकार को एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने गंगा में खनन पर लगी रोक को हटाने वाली याचिका को खारिज कर दिया। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में गंगा में खनन शुरू करने की याचिका उत्तराखंड वन विकास निगम और अन्य निजी कंपनियों ने दायर की थी। जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा कि याचिका पर विचार नहीं किया जाएगा इसके साथ ही याचिका खारिज कर दी।

गौरतलब है कि याचिकर्ताओं के खिलाफ बहस करते हुए अधिवक्ता अजयवीर सिंह ने कहा कि एनजीटी ने 26 फरवरी को ही एफआरआई को इस बात के निर्देश दिए थे कि वह गंगा में रेत खनन के मामले पर अध्ययन करे और अपनी रिपोर्ट दे। इसके साथ ही एनजीटी ने यह भी कहा था कि जब तक रिपोर्ट नहीं आती है उस समय तक खनन पर पूरी तरह से रोक लगा दी जाए। 

ये भी पढ़ें - घनसाली में लव जेहाद के मामले पर दो समुदायों में मचा बवाल, भारी तोड़फोड़ के बाद छावनी में तब्दील...

यहां बता दें कि अजय वर्मा नाम की शख्स द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई के बाद एनजीटी ने खनन पर पूरी तरह  से रोक लगा दी। अजय वर्मा ने अपनी याचिका में कहा था कि रेत और पत्थरों के अवैध खनन से पर्यावरण पर पारिस्थितिकी दुष्प्रभाव पड़ रहा है। वहीं खनन माफिया भी काफी सक्रिय हो गए थे। 


गौर करने वाली बात है कि गंगा में खनन पर रोक लगने से प्रदेश में विकास कार्य पर भी असर पड़ा है। ऐसे में उत्तराखंड वन विकास निगम के साथ कई कंपनियों ने सुप्रीम कोर्ट में रोक को हटाने की याचिका दायर की थी।

  

Todays Beets: