Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

गंगा संरक्षण के लिए 80 दिनों से अनशन कर रहे ‘स्वामी’ की केंद्र को चेतावनी, 10 अक्टूबर से जल का करेंगे त्याग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गंगा संरक्षण के लिए 80 दिनों से अनशन कर रहे ‘स्वामी’ की केंद्र को चेतावनी, 10 अक्टूबर से जल का करेंगे त्याग

हरिद्वार। गंगा रक्षा के लिए करीब 80 दिनों से अनशन कर रहे प्रोफेसर जीडी अग्रवाल उर्फ स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद ने केन्द्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि गंगा रक्षा के लिए उनके द्वारा तैयार किया गया ड्राफ्ट के आधार पर एक्ट नहीं बनाया गया तो वे 10 अक्टबूर से जल का भी त्याग कर देंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें सरकारी ड्राफ्ट पर भरोसा नहीं है क्योंकि सरकारी ड्राफ्ट में गंगा को व्यापार का माध्यम बना दिया है। जिसमें गंगा को पूरी तरह से सरकारी कर्मचारियों के हाथों में छोड़ दिया गया है। बता दें कि इससे पहले उनकी तबीयत बिगड़ने की वजह से उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था।

गौरतलब है कि गंगा की रक्षा के लिए स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद पिछले 2 महीने से ज्यादा समय से अनशन कर रहे हैं और सिर्फ नींबू पानी ही ले रहे हैं। अब उन्होंने कहा कि उन्हें जून में प्रधानमंत्री को गंगा की रक्षा को लेकर पत्र लिखा था लेकिन उसका कोई जवाब नहीं मिला। अब उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर 9 अक्टूबर तक उनके द्वारा तैयार ड्राफ्ट के आधार पर एक्ट नहीं बनाया जाता है तो वे 10 अक्टूबर से पूरी तरह से जल का भी त्याग कर देंगे। उन्होंने कहा कि गंगा को भगीरथ के तीन पीढ़ियों के भारी तप के बाद धरती पर लाया गया था। ऐसे में अगर उनकी मृत्यू से गंगा की रक्षा हो सकती है तो वे ऐसा भी करने के लिए तैयार हैं।

ये भी पढ़ें - ऊर्जा निगम के अधिकारी का खुलासा, विभाग ही करा रहा बिजली चोरी, उद्योगों से मिलीभगत का आरोप


यहां बता दें कि लगातार 80 दिनों से अनशन करने की वजह से कई बार उनकी हालत बिगड़ गई। उन्हें जबरन एम्स में भर्ती कराया गया लेकिन हाईकोर्ट के हस्तक्षेप के बाद उन्हें वापस मातृसदन भेजा गया। भाजपा नेता उमा भारती ने भी उनसे मिलकर अनशन खत्म करने की अपील की लेकिन उन्होंने अपना अनशन नहीं तोड़ा। स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद ने कहा कि उन्हें सरकारी ड्राफ्ट पर भरोसा नहीं है, क्योंकि सरकारी ड्राफ्ट में गंगा को व्यापार का माध्यम बना दिया है जिसमें गंगा को पूरी तरह से सरकारी कर्मचारियों के हाथों में छोड़ दिया गया है। 

 

Todays Beets: