Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

फर्जी दस्तावेजों पर 22 सालों तक बना रहा प्रधानाध्यापक, मामला सामने आने पर हुआ फरार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फर्जी दस्तावेजों पर 22 सालों तक बना रहा प्रधानाध्यापक, मामला सामने आने पर हुआ फरार

देहरादून। उत्तराखंड में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर सालों से नौकरी करने वाले एक और शिक्षक का पता चला है। मामला एसआईटी को सौंपे जाने के बाद से आरोपी शिक्षक फरार है। बताया जा रहा है कि सल्ट इलाके के राजकीय प्राथमिक विद्यालय भीताकोट (सिराली बूड़ाकोट) में प्रधानाध्यापक के पद पर पिछले 22 सालों से नौकरी कर रहा है। उसके प्रमाणपत्रों पर शक होने के बाद शिक्षा अधिकारी ने इसकी जांच एसआईटी को सौंपी। इसके बाद से ही आरोपी प्रधानाध्यापक फरार बताया जा रहा है। 

गौरतलब है कि एसआईटी की जांच में आरोपी प्रधानाध्यापक के हाईस्कूल एवं इंटमीडिएट के प्रमाण पत्र फर्जी मिले थे तब से वह निलंबित चल रहा है। आरोपी प्रधानाध्यापक 22 साल से दूसरे के रोल नंबर वाले प्रमाणपत्रों के सहारे नौकरी कर रहा था। एसआईटी को मामला सौंपे जोन की खबर के बाद से आरोपी शिक्षक फरार है। जिला शिक्षा अधिकारी के निर्देश के बाद राजस्व पुलिस ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

ये भी पढ़ें - हाईकोर्ट की सख्ती के बाद शिक्षकों ने आंदोलन लिया वापस, मांगों के पूरा होने की जताई उम्मीद


यहां बता दें कि उत्तराखंड के कई जिलों में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरी करने वालों का खुलासा हुआ था। इसमें सबसे ज्यादा हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में पाया गया था। आरोपी शिक्षकों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की संस्तुति कर दी गई है। बताया जा रहा है कि शिक्षक मूल रूप से उत्तरप्रदेश के बिजनौर का रहने वाला है। राजस्व पुलिस ने उसके खिलाफ धारा 420, 467 और 468 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। 

Todays Beets: