Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

करीब 50 हजार रुपये वेतन लेने वाली प्राथमिक विद्यालय लंगासू की प्रधानाध्यापिका ने दिहाड़ी पर रखे पढ़ाने वाले, शिक्षा अधिकारी ने किया निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
करीब 50 हजार रुपये वेतन लेने वाली प्राथमिक विद्यालय लंगासू की प्रधानाध्यापिका ने दिहाड़ी पर रखे पढ़ाने वाले, शिक्षा अधिकारी ने किया निलंबित

गोपेश्वर। उत्तराखंड की शिक्षा व्यवस्था को स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षक ही पलीता लगा रहे हैं। चमोली जिले के जिला शिक्षा अधिकारी (प्राथमिक शिक्षा) नरेश कुमार हल्दियानी ने कर्णप्रयाग विकासखंड के प्राथमिक विद्यालयों का औचक निरीक्षण में इस बात का खुलासा हुआ है। अधिकारी जब कर्णप्रयाग के एक स्कूल में पहुंचे तो पता चला कि 40 से 50 हजार रुपये वेतन लेने वाली शिक्षिका ने दिहाड़ी मजदूरी पर एक युवक को पढ़ाने के लिए रखा हुआ था। प्रधानाध्यापिका को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

दिहाड़ी पर रखा युवकों को

गौरतलब है कि राज्य में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के लिए सरकार की तरफ से भरपूर कोशिशें की जा रहीं हैं। स्कूली शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने सभी जिलों के शिक्षा अधिकारियों को स्कूलों में औचक निरीक्षण करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद चमोली के जिला शिक्षा अधिकारी ने जब विकास खंड कर्णप्रयाग के प्राथमिक विद्यालय भकुंडा, जूनियर हाईस्कूल भकुंडा और प्राथमिक विद्यालय लंगासू का औचक निरीक्षण किया तो पता चला कि वहां पर कार्यरत प्रधानाध्यापिका शशि कंडवाल विद्यालय में नहीं थीं।

ये भी पढ़ें - शिक्षकों को स्कूल आने और जाने के समय लेनी होगी सेल्फी, विभाग तकनीक के जरिए रखेगा नजर


प्रधानाध्यापिका को किया गया निलंबित 

आपको बता दें निरीक्षण में पता चला कि करीब 50 हजार रुपये महीने का वेतन लेने वाले इन मैडम ने अपनी जगह इलाके के कुछ युवकों को दिहाड़ी पर स्कूल में पढ़ाने के लिए रखा हुआ था। जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि प्रधानाध्यापिका को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। उन्हें उपशिक्षा अधिकारी प्रारंभिक शिक्षा कर्णप्रयाग कार्यालय में संबंद्ध किया गया है। प्रकरण की जांच के लिए उप शिक्षा अधिकारी को जांच अधिकारी नियुक्त कर प्रकरण के जांच के निर्देश दे दिए गए हैं।

Todays Beets: