Saturday, July 21, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

इंटर काॅलेजों में प्रधानाचार्य के पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरने का विरोध कर रहे शिक्षक संघ ने सुझाया उपाय, कहा- एलटी और प्रवक्ता ही माने जाएं पात्र

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इंटर काॅलेजों में प्रधानाचार्य के पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरने का विरोध कर रहे शिक्षक संघ ने सुझाया उपाय, कहा- एलटी और प्रवक्ता ही माने जाएं पात्र

देहरादून। राज्य के इंटर काॅलेजों में प्रधानाचर्यों के खाली पड़े पदों के 50 फीसदी हिस्से को सीधी भर्ती के जरिए भरे जाने के सरकारी आदेश का विरोध होना शुरू हो गया है। राजकीय शिक्षक संघ भी इसके विरोध में खड़ा हो गया है। संघ ने कहा कि नियमावाली में प्रधानाचार्यों के पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरने का प्रावधान ही नहीं है, ऐसे में सरकार का यह फैसला गलत है। राजकीय शिक्षक संघ ने सरकार को पदों की भर्ती के लिए एक उपाय भी सुझाया है। संघ ने कहा कि इन पदों की भर्ती के लिए सिर्फ एलटी और प्रवक्ताओं को ही पात्र माना जाए।

गौरतलब है कि राजकीय शिक्षा संघ ने कहना है कि सेवा नियमावली में प्रधानाचार्यों के पदों को सीधी भर्ती का प्रावधान ही नहीं है। इन पदों को प्रमोशन के आधार पर ही भरने का प्रावधान है। सरकार के फैसले का विरोध करते हुए राजकीय शिक्षक संघ ने कहा कि 400 से ज्यादा छात्रों वाले स्कूलों में उप प्रधानाचार्य के पदों को सृजित करने की भी मांग की है। इसके साथ ही प्रधानाचार्यों के पद पर प्रमोशन के शिथिलीकरण के प्रावधान को लागू करने की मांग की है। 

ये भी पढ़ें - फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी पाने पर कसा शिकंजा, 20 के खिलाफ दर्ज होगा एफआईआर


यहां बता दें कि शिक्षक संघ ने यह मांग भी की है कि अगर सरकार 50 फीसदी पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरना चाहती है तो उसके लिए विभागीय एलटी और प्रवक्ताओं को ही पात्र माना जाए। इसके साथ ही इनके लिए उम्र सीमा भी खत्म करने की मांग की है। शिक्षा निदेशक ने राजकीय शिक्षक संघ की मांगों को शासन के सामने रखने का आश्वासन दिया है।  

 

Todays Beets: