Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

इंटर काॅलेजों में प्रधानाचार्य के पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरने का विरोध कर रहे शिक्षक संघ ने सुझाया उपाय, कहा- एलटी और प्रवक्ता ही माने जाएं पात्र

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इंटर काॅलेजों में प्रधानाचार्य के पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरने का विरोध कर रहे शिक्षक संघ ने सुझाया उपाय, कहा- एलटी और प्रवक्ता ही माने जाएं पात्र

देहरादून। राज्य के इंटर काॅलेजों में प्रधानाचर्यों के खाली पड़े पदों के 50 फीसदी हिस्से को सीधी भर्ती के जरिए भरे जाने के सरकारी आदेश का विरोध होना शुरू हो गया है। राजकीय शिक्षक संघ भी इसके विरोध में खड़ा हो गया है। संघ ने कहा कि नियमावाली में प्रधानाचार्यों के पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरने का प्रावधान ही नहीं है, ऐसे में सरकार का यह फैसला गलत है। राजकीय शिक्षक संघ ने सरकार को पदों की भर्ती के लिए एक उपाय भी सुझाया है। संघ ने कहा कि इन पदों की भर्ती के लिए सिर्फ एलटी और प्रवक्ताओं को ही पात्र माना जाए।

गौरतलब है कि राजकीय शिक्षा संघ ने कहना है कि सेवा नियमावली में प्रधानाचार्यों के पदों को सीधी भर्ती का प्रावधान ही नहीं है। इन पदों को प्रमोशन के आधार पर ही भरने का प्रावधान है। सरकार के फैसले का विरोध करते हुए राजकीय शिक्षक संघ ने कहा कि 400 से ज्यादा छात्रों वाले स्कूलों में उप प्रधानाचार्य के पदों को सृजित करने की भी मांग की है। इसके साथ ही प्रधानाचार्यों के पद पर प्रमोशन के शिथिलीकरण के प्रावधान को लागू करने की मांग की है। 

ये भी पढ़ें - फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी पाने पर कसा शिकंजा, 20 के खिलाफ दर्ज होगा एफआईआर


यहां बता दें कि शिक्षक संघ ने यह मांग भी की है कि अगर सरकार 50 फीसदी पदों को सीधी भर्ती के जरिए भरना चाहती है तो उसके लिए विभागीय एलटी और प्रवक्ताओं को ही पात्र माना जाए। इसके साथ ही इनके लिए उम्र सीमा भी खत्म करने की मांग की है। शिक्षा निदेशक ने राजकीय शिक्षक संघ की मांगों को शासन के सामने रखने का आश्वासन दिया है।  

 

Todays Beets: