Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

शिक्षकों को स्कूल आने और जाने के समय लेनी होगी सेल्फी, विभाग तकनीक के जरिए रखेगा नजर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षकों को स्कूल आने और जाने के समय लेनी होगी सेल्फी, विभाग तकनीक के जरिए रखेगा नजर

देहरादून। राज्य के सरकारी स्कूलों में तैनात शिक्षकों को अब गैरहाजिर रहना या देर से आना महंगा पड़ सकता है। शिक्षा विभाग ने इसके लिए तकनीक का सहारा लिया है और इसके लिए एक एप विकसित किया गया है। अब शिक्षकों को रियल टाइम अटेंडेंस (आरटीए) के लिए स्कूल में आने और जाने के समय इस एप पर अपनी सेल्फी अपलोड करनी होगी। सरकार का मानना है कि इस तरीके से शिक्षकों की लापरवाही और देर से आने की आदत पर भी लगाम लगेगी।

एप से शिक्षकों पर नजर

गौरतलब है कि स्कूली शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि इस एप को वर्तमान में चल रहे उज्ज्वल एप से इसे जोड़ा गया है और इसे जल्द ही लागू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस व्यवस्था से विभाग में पारदर्शिता आएगी और सभी स्कूला में बायोमीट्रिक मशीन लगाने का खर्चा भी बचेगा। इससे स्कूलों से गायब रहने वाले शिक्षकों पर अंकुश लगेगा। सेल्फी भेजने से शिक्षकांे की लोकेशन का भी पता चल सकेगा।

ये भी पढ़ें - प्रशासनिक इकाइयों की लापरवाही पर बरसे सीएम, जिलाधिकारियों को दिए शिकायत निवारण शिविर लगाने के आदेश


शिक्षकों की लोकेशन की जांच

आपको बता दें कि शिक्षा विभाग के करीब 70 हजार शिक्षक, कर्मचारी और अफसरों की लॉगिन आईडी तैयार कर ली गई है। उज्जवल एप-प्रभारी उप शिक्षा अधिकारी ब्रजपाल सिंह राठौर ने बताया कि यह पूरा सिस्टम जीपीआरएस से लैस है। शिक्षकों को अपने मोबाइल पर इस एप को डाउनलोड करना होगा। जैसे ही वह स्कूल पहुंचेगा, उसे अपनी लॉगिन आईडी खोलकर ‘पंचिंग’ बटन दबाना होगा। ऐसा करते ही रियल टाइम सेल्फी का फंक्शन खुल जाएगा और जैसे ही मोबाइल से सेल्फी खींची जाएग वह मुख्य सर्वर में पहुंच जाएगी। इस फोटो के साथ शिक्षक की लोकेशन का भी ब्योरा होगा। जीपीआरएस से जुड़ा होने की वजह से एक निश्चित समयांतराल पर शिक्षक की लोकेशन की जांच करता रहेगा।  

Todays Beets: