Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

तबादला निरस्त करने पर भड़के शिक्षक, सरकार पर नाइंसाफी करने का लगाया आरोप 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तबादला निरस्त करने पर भड़के शिक्षक, सरकार पर नाइंसाफी करने का लगाया आरोप 

देहरादून। राज्य सरकार और शिक्षकों के बीच अभी भी सबकुछ ठीक होता दिखाई नहीं दे रहा है। कांग्रेस के शासनकाल में हुए तबादलों को निरस्त करने से शिक्षकों में काफी नाराजगी है। शिक्षकों का कहना है कि उनका तबादला 3 से 5 सालों के लिए किया गया था ऐसे में मात्र डेढ़ सालों के अंदर उसे निरस्त करना सही नहीं है। वहीं दूसरी तरफ इस बात पर सरकार ने अपना रुख पहले ही साफ कर दिया है, शिक्षा मंत्री और शिक्षा सचिव ने तबादला आदेश निरस्त करने के फैसले को वापस लेने से इंकार कर दिया है।

गौरतलब है कि 24 नवंबर 2016 को सशर्त तबादलों की सुविधा के शासनादेश के तहत बेसिक, जूनियर और माध्यमिक स्तर पर करीब 500 शिक्षकों के तबादले हुए थे। इसके बाद भाजपा सरकार ने 25 अप्रैल 2018 को सरकार ने बेसिक और जूनियर के शिक्षकों के तबादला आदेश निरस्त कर दिए हैं। सरकार के इस फैसले से नाराज शिक्षकों ने शिक्षा निदेशालय पर धरना भी दिया। शिक्षकों का कहना है कि सरकार उनके साथ नाइंसाफी कर रही है। 

ये भी पढ़ें - थराली पहुंचे सीएम ने लोगों से जमीन न बेचने की अपील की, कहा-आने वाले समय में काफी फायदा होगा


यहां बता दें कि शिक्षकों का कहना है कि प्रदेश सरकार को शिक्षकों की परेशानियों को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि 2017 में बीमार और पारिवारिक रूप से परेशान शिक्षकों का तबादला किया गया था। ऐसे में सरकार को शिक्षकों का तबादला समय से पहले निरस्त नहीं करना चाहिए। अब इस बात को लेकर शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे पर भी दवाब बढ़ता जा रहा है। 

Todays Beets: