Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

तबादला निरस्त करने पर भड़के शिक्षक, सरकार पर नाइंसाफी करने का लगाया आरोप 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तबादला निरस्त करने पर भड़के शिक्षक, सरकार पर नाइंसाफी करने का लगाया आरोप 

देहरादून। राज्य सरकार और शिक्षकों के बीच अभी भी सबकुछ ठीक होता दिखाई नहीं दे रहा है। कांग्रेस के शासनकाल में हुए तबादलों को निरस्त करने से शिक्षकों में काफी नाराजगी है। शिक्षकों का कहना है कि उनका तबादला 3 से 5 सालों के लिए किया गया था ऐसे में मात्र डेढ़ सालों के अंदर उसे निरस्त करना सही नहीं है। वहीं दूसरी तरफ इस बात पर सरकार ने अपना रुख पहले ही साफ कर दिया है, शिक्षा मंत्री और शिक्षा सचिव ने तबादला आदेश निरस्त करने के फैसले को वापस लेने से इंकार कर दिया है।

गौरतलब है कि 24 नवंबर 2016 को सशर्त तबादलों की सुविधा के शासनादेश के तहत बेसिक, जूनियर और माध्यमिक स्तर पर करीब 500 शिक्षकों के तबादले हुए थे। इसके बाद भाजपा सरकार ने 25 अप्रैल 2018 को सरकार ने बेसिक और जूनियर के शिक्षकों के तबादला आदेश निरस्त कर दिए हैं। सरकार के इस फैसले से नाराज शिक्षकों ने शिक्षा निदेशालय पर धरना भी दिया। शिक्षकों का कहना है कि सरकार उनके साथ नाइंसाफी कर रही है। 

ये भी पढ़ें - थराली पहुंचे सीएम ने लोगों से जमीन न बेचने की अपील की, कहा-आने वाले समय में काफी फायदा होगा


यहां बता दें कि शिक्षकों का कहना है कि प्रदेश सरकार को शिक्षकों की परेशानियों को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि 2017 में बीमार और पारिवारिक रूप से परेशान शिक्षकों का तबादला किया गया था। ऐसे में सरकार को शिक्षकों का तबादला समय से पहले निरस्त नहीं करना चाहिए। अब इस बात को लेकर शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे पर भी दवाब बढ़ता जा रहा है। 

Todays Beets: