Friday, December 14, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

केदरानाथ धाम के दर्शन होंगे आसान, सरकार ने कंपनियों से मांगी ईआईओ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केदरानाथ धाम के दर्शन होंगे आसान, सरकार ने कंपनियों से मांगी ईआईओ

देहरादून। उत्तराखंड सरकार राज्य में पर्यटन को विश्वस्तरीय बनाने के प्रयास में जुट गई है। इसके लिए केदारनाथ धाम के दर्शन के लिए आने वाले यात्रियों को रोपवे की सुविधा देने की तैयारी की जा रही है। बता दें कि इसके लिए सरकार ने रोपवे बनाने में दिलचस्पी रखने वाली कंपनियों से एक्सप्रेशन आॅफ इंटेरेस्ट (ईओआई) मांगा है। सरकारी खबरों के अनुसार गौरीकुंड से केदारनाथ तक बनने वाले रोपवे पर करीब 500 करोड़ रुपये की लागत आएगी। खर्च ज्यादा होने की वजह से सरकार इससे पीपीपी मोड पर तैयार कराने पर विचार कर रही है। 

गौरतलब है कि केदारनाथ में आई आपदा के बाद यहां आने वाले श्रद्धालुओं की तादाद में एक बार फिर से बढ़ गई है। केदारनाथधाम तक पहुंचने के लिए हैली सर्विस का सहारा लेना पड़ता है। हैलीकाॅप्टर के उड़ने से पहाड़ों और वन्यजीवों को काफी नुकसान पहुंचने की आशंका बनी रहती है। सरकार इससे बचने के लिए भी गौरीकुंड से केदारनाथ धाम तक रोपवे बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। 

ये भी पढ़ें - पैरा एशियाई गेम्स में ‘उत्तराखंडी’ खिलाड़ी भी दिखाएंगे दम, विदेशी खिलाड़ियों को देंगे चुनौती

यहां बता दें कि गौरीकुंड से केदारनाथ के बीच की दूरी करीब साढ़े 8 किलोमीटर है। इस मार्ग पर रोपवे तैयार करने की इच्छुक कंपनियों से सरकार ने ईओआई मांगा है। सरकार राज्य में पर्यटन के विकास को विश्वस्तरीय बनाना चाहती है। रोपवे तैयार होने से केदारनाथधाम तक जाने वाली हैली सेवा पर भी रोक लगेगी। 


पर्यटन विभाग केदारनाथ के साथ दो अन्य बड़ी रोपवे परियोजनाओं को धरातल पर उतारने में जुटा है। इन्वेस्टर्स समिट से पहले साढ़े 5 किलोमीटर लंबे मसूरी रोपवे का टेंडर प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। इसके अलावा नैनीताल में 11 किलोमीटर लंबे रोपवे के लिए भी ईओआई जारी किया जा रहा है। इन्वेस्टर्स समिट में भी प्रदेश सरकार इसका उल्लेख करेगी। 

 

Todays Beets: