Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

उत्तरकाशी के चांइसील में ट्रैकिंग के लिए गया दल रास्ता भटका, महाराष्ट्र के पर्यटक की मौत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरकाशी के चांइसील में ट्रैकिंग के लिए गया दल रास्ता भटका, महाराष्ट्र के पर्यटक की मौत

उत्तरकाशी। उत्तराखंड के उत्तरकाशी में स्थित चांइसील ट्रैक पर ट्रैकिंग के लिए गए महाराष्ट्र के 24 वर्षीय पर्यटक की मौत रास्ता भटकने के बाद ठंड लगने की वजह से हो गई है। ट्रैकर की मौत की सूचना मिलने के बाद एसडीआरएफ, पुलिस और वन विभाग की टीम शव को लेने घटना स्थल पर पहुंच गई है। यहां ट्रैकिंग के लिए गए बाकी सभी ट्रैकर सुरक्षित बताए जा रहे हैं। खबरों के अनुसार 7 अप्रैल को दिल्ली यूथ हॉस्टल एसोसिएशन ऑफ इंडिया नाम की ट्रैकिंग संस्था शासन से अनुमति लेने के बाद चांइसील ट्रैक पर निकले थे।

गौरतलब है कि ट्रैकिंग दल में गुडगांव, महाराष्ट्र और दिल्ली के करीब 16 पर्यटक शामिल थे। ये सभी वलावट से चांइसील ट्रैक पर निकले थे। चांइसील से लौटते समय इस दल के सदस्य ट्रैक के तीसरे पड़ाव टामटा थाट में रास्ता भटक गए। बता दें कि इन सभी सदस्यों को कसमोल्टी बेस कैंप वापस आना था लेकिन रास्ते में भारी बारिश, बर्फबारी और घने कोहरे की वजह से महाराष्ट्र निवासी सुमित (25 वर्ष) और गाइड परमानंद दल के अन्य सदस्यों से अलग हो गए जबकि बाकी के सदस्य बेस कैंप में वापस आ गए।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में अब फिल्मों की शूटिंग होगी मुफ्त, स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार


आपको बता दें कि रास्ते में सुमित की हालत बिगड़ने के बाद पोर्टर द्वारा उसे बेस कैंप ले जाने की कोशिश की गई लेकिन उसकी हालत नहीं संभली। बेस कैंप पहुंचे बाकी के सदस्यों सेे इसकी जानकारी मिलने के बाद एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची लेकिन ज्यादा ठंड की वजह से उसकी मौत हो गई।  एसडीएम पुरोला पूरण सिंह राणा ने बताया कि पर्यटक की मौत की सूचना मिलने के बाद एसडीआरएफ, वन विभाग, पुलिस की टीम शव को लेने के लिए घटना स्थल के लिए पहुंच गई है। 

Todays Beets: