Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

उत्तरकाशी के चांइसील में ट्रैकिंग के लिए गया दल रास्ता भटका, महाराष्ट्र के पर्यटक की मौत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरकाशी के चांइसील में ट्रैकिंग के लिए गया दल रास्ता भटका, महाराष्ट्र के पर्यटक की मौत

उत्तरकाशी। उत्तराखंड के उत्तरकाशी में स्थित चांइसील ट्रैक पर ट्रैकिंग के लिए गए महाराष्ट्र के 24 वर्षीय पर्यटक की मौत रास्ता भटकने के बाद ठंड लगने की वजह से हो गई है। ट्रैकर की मौत की सूचना मिलने के बाद एसडीआरएफ, पुलिस और वन विभाग की टीम शव को लेने घटना स्थल पर पहुंच गई है। यहां ट्रैकिंग के लिए गए बाकी सभी ट्रैकर सुरक्षित बताए जा रहे हैं। खबरों के अनुसार 7 अप्रैल को दिल्ली यूथ हॉस्टल एसोसिएशन ऑफ इंडिया नाम की ट्रैकिंग संस्था शासन से अनुमति लेने के बाद चांइसील ट्रैक पर निकले थे।

गौरतलब है कि ट्रैकिंग दल में गुडगांव, महाराष्ट्र और दिल्ली के करीब 16 पर्यटक शामिल थे। ये सभी वलावट से चांइसील ट्रैक पर निकले थे। चांइसील से लौटते समय इस दल के सदस्य ट्रैक के तीसरे पड़ाव टामटा थाट में रास्ता भटक गए। बता दें कि इन सभी सदस्यों को कसमोल्टी बेस कैंप वापस आना था लेकिन रास्ते में भारी बारिश, बर्फबारी और घने कोहरे की वजह से महाराष्ट्र निवासी सुमित (25 वर्ष) और गाइड परमानंद दल के अन्य सदस्यों से अलग हो गए जबकि बाकी के सदस्य बेस कैंप में वापस आ गए।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में अब फिल्मों की शूटिंग होगी मुफ्त, स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार


आपको बता दें कि रास्ते में सुमित की हालत बिगड़ने के बाद पोर्टर द्वारा उसे बेस कैंप ले जाने की कोशिश की गई लेकिन उसकी हालत नहीं संभली। बेस कैंप पहुंचे बाकी के सदस्यों सेे इसकी जानकारी मिलने के बाद एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची लेकिन ज्यादा ठंड की वजह से उसकी मौत हो गई।  एसडीएम पुरोला पूरण सिंह राणा ने बताया कि पर्यटक की मौत की सूचना मिलने के बाद एसडीआरएफ, वन विभाग, पुलिस की टीम शव को लेने के लिए घटना स्थल के लिए पहुंच गई है। 

Todays Beets: