Monday, May 27, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

उत्तराखंडवासी अपनी जनसमस्याओं के लिए डायल करें 1905, त्वरित समाधान के लिए सीएम हेल्पलाइन का शुभारंभ

अंग्वाल संवाददाता
उत्तराखंडवासी अपनी जनसमस्याओं के लिए डायल करें 1905, त्वरित समाधान के लिए सीएम हेल्पलाइन का शुभारंभ

देहरादून । उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार को सीएम हेल्पलाइन 1905 का शुभारम्भ किया। इस हेल्पलाइन की मदद से लोगों की समस्याओं का त्वरित निस्तारण किया जाएगा। प्रदेश की जनता अपनी शिकायत 1905 पर फोन करने के साथ ही पोर्टल के माध्यम से , मोबाइल एप के माध्यम से भी दर्ज करा सकते हैं। इसके लिए एक कॉल सेंटर बनाया गया है, जो सुबह प्रतिदिन सुबह 8 बजे से रात 10 बजे तक खुला रहेगा। इस हेल्पलाइन से राज्य सरकार के सभी विभागों से संपर्क किया जा सकता है तथा शासकीय योजनाओं की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। जन समस्याओं के समुचित समाधान के लिए इसके तहत ब्लॉक स्तर से शासन स्तर तक के अधिकारी उत्तरदायी रहेंगे। प्रभावी निदान व अनुश्रवण के लिए नागरिकों की शिकायतें cmhelpline.uk.gov.in  पर पंजीकृत होंगी।

जनसमस्याओं के समाधान में आएगी तेजी

इस हेल्पलाइन का शुभारंभ करने के साथ ही सीएम रावत ने कहा कि इस हेल्पलाइन के माध्यम से अब लोगों की समस्ताओं का त्वरित समाधान किया जाएगा। इससे विभागीय कार्यों में गति के साथ ही पारदर्शिता भी बढ़ेगी। जन समस्याओं का समाधान तेजी से होने के साथ ही शिकायतों व समस्याओं के समाधान के साथ ही उनका मूल्यांकन भी होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हेल्प लाइन की सुविधा होने से लोगों के समय व धन दोनों की बचत भी होगी। आने वाले समय में इसके बहुआयामी परिणाम भी सामने आयेंगे। वर्तमान में इस सेंटर में 10 लोग कार्य कर रहें हैं, भविष्य में आवश्यकता अनुसार इसका विस्तार किया जाएगा।

BCCI बोली- Uttarakhand में क्रिकेट की चारों एसोसिएशन बनाएं एक फेडरेशन , तभी मिलेगी गतिविधियों को मान्यता

 

प्रतिमाह समीक्षा होगी

बता दें कि इस हेल्पलाइन पर आने वाली जनसमस्याओं की समीक्षा प्रतिमाह होगी। इसकी समीक्षा मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव व अपर मुख्य सचिव भी करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे विभागों व अधिकारियों की कार्य प्रणाली में भी तेजी आयेगी। विभागों की परर्फोमेंस की रेटिंग भी इससे की जायेगी। इससे अच्छा कार्य करने वाले अधिकारियों को गुड गवर्नेंस अवार्ड के लिए चुनने में भी मदद मिलेगी। इस एप पर शिकायतकर्ता की संतुष्टि के बाद ही समस्या का समाधान माना जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि ट्रांसफर एक्ट व सीएम एप के बाद जनसमस्याओं का तेजी से समाधान हुआ है, सीएम हेल्पलाईन इस दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम है।


हेल्पलाइन बने आसान और सुविधाजनक

इस दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने निर्देश दिए कि हेल्पलाइन के सिस्टम को आसान व सुविधाजनक बनाया जाए। कॉलसेंटर के कर्मचारियों को बेहतर प्रशिक्षण देने की व्यवस्था करने के साथ ही ऐसे दक्ष कार्मिकों की इसमे सहभागीता सुनिश्चित की जाये जो विभिन्न विभागों की कार्यप्रणाली की जानकारी से अभिज्ञ न हो। इस दौरान मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि समस्याओं के त्वरित निस्तारण व गुणवत्तापरक कार्यों के लिए सीएम हेल्पलाइन सक्षम माध्यम होगा।

नशे में धुत दो पुलिसकर्मियों ने लेफ्टिनेंट कर्नल की पत्नी से की बदसलूकी , आरोपी पुलिसकर्मी निलंबित

शिकायत सीधे विभागीय अधिकारियों को भेजेंगे

इस हेल्पलाइन पर शिकायतकर्ता की शिकायत सीधे सम्बन्धित विभागीय अधिकारी को भेजी जायेगी। समय पर शिकायत का निस्तारण न होने पर  प्राप्त शिकायत उच्चाधिकारियों को उपलब्ध कराई जायेगी। इससे विभागों में भी प्राप्त डाटा के आधार पर कमियों को दूर करने में मदद मिलेगी। इस व्यवस्था के तहत यदि किसी नागरिक का प्रशासन या विभाग स्तर पर कोई काम नहीं हो रहा है तो सीएम हेल्पलाईन 1905 पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। समाधान, मुख्यमंत्री कार्यालय, जिलाधिकारी कार्यालय आदि स्तर पर की जाने वाली शिकायतों को भी इसमें समन्वित किया जाएगा। एक इंटीग्रेटेड सिस्टम होने से डुप्लीकेसी को भी रोका जा सकेगा। इस हेल्पलाईन के तहत बनाए गए सिस्टम से नागरिकों की शिकायतों का फॉलोअप आसानी से हो सकेगा। कॉल सेंटर द्वारा शिकायत सीधे उस अधिकारी को फारवर्ड की जाएगी जहां से उस शिकायत का निस्तारण किया जाना है।  

 

Todays Beets: