Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

त्रिवेन्द्र रावत तोड़ेंगे ‘हरदा’ का रिकाॅर्ड, टिहरी झील के किनारे करेंगे कैबिनेट की बैठक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
त्रिवेन्द्र रावत तोड़ेंगे ‘हरदा’ का रिकाॅर्ड, टिहरी झील के किनारे करेंगे कैबिनेट की बैठक

देहरादून। गैरसैंण में मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित करने के बाद अब प्रदेश सरकार ने एक और बैठक राजधानी से बाहर करने का फैसला लिया है। राज्य में साहसिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने टिहरी झील के किनारे कैबिनेट बुलाने का फैसला किया है। बता दें कि ऐसा आठवीं बार होगा जब प्रदेश सरकार राजधानी से बाहर कैबिनेट की बैठक करेगी। हालांकि अभी बैठक को लेकर तारीखों का ऐलान नहीं किया गया है लेकिन टिहरी महोत्सव से पहले कैबिनेट वहां पहुंचेगी।

गौरतलब है कि राजधानी से बाहर कैबिनेट की बैठक आयोजित करने का सिलसिला भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री डाॅक्टर रमेश पोखरियाल निशंक ने 2011 में की थी। उन्होंने हरिद्वार में हर की पैड़ी पर कैबिनेट की बैठक का आयोजन किया था। इसके बाद कांग्रेस के तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने 2012 में गैरसैंण में कैबिनेट की बैठक का आयोजन किया था। 

ये भी पढ़ें - बाॅलीवुड के बाद दक्षिण भारत के बड़े अभिनेता भी करेंगे प्रदेश में शूटिंग, सीएम ने भी दिया सहयोग...


यहां बता दें कि राजधानी से बाहर कैबिनेट की बैठकों का आयोजन करने के मामले में हरीश रावत सबसे आगे हैं। उन्होंने वर्ष 2014 में अल्मोड़ा में कैबिनेट की बैठक की। हरदा कैबिनेट को लेकर केदारनाथ पहुंच गए, जहां बैठक में कई अहम निर्णय लिए गए। उन्होंने हरिद्वार जनपद के चुड़ियाला में भी कैबिनेट की बैठक की। अब ऐसा लगता है कि भाजपा के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत राजधानी से बाहर कैबिनेट बैठक करने का हरीश रावत के रिकार्ड को तोड़ देंगे। बता दें कि त्रिवेन्द्र रावत भराड़ीसैंण में दो कैबिनेट बैठकें कर चुके हैं और अब टिहरी में कैबिनेट बैठक करने की उनकी घोषणा जाहिर कर रही है कि उन्हें राजधानी से बाहर जाने में कोई दिक्कत नहीं है। 

Todays Beets: