Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

यूओयू को यूजीसी ने दिया बड़ा झटका, 77 कोर्स में से 72 कोर्स किया रद्द

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूओयू को यूजीसी ने दिया बड़ा झटका, 77 कोर्स में से 72 कोर्स किया रद्द

हल्द्वानी। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय (यूओयू) से कोर्स करने वाले छात्रों को एक बड़ा झटका लगा है। यूजीसी के ओपन एंड डिस्टेंस एजुकेशन पाठ्यक्रमों को मान्यता देने वाली कमेटी डिस्टेंस एजुकेशन ब्यूरो ने विश्वविद्यालय में संचालित सिर्फ 77 कोर्स में से 72 कोर्स की मान्यता रद्द कर दी है। इसका मतलब यह हुआ कि अब यहां सिर्फ 5 पाठ्यक्रमों को ही पढ़ाया जाएगा। ऐसे में यूओयू में हर साल दाखिला लेने वाले करीब 20 हजार छात्रों के भविष्य पर तलवार लटक गई है। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में दूरस्थ शिक्षा के अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट के 42 और डिप्लोमा के 35 कोर्स चलाए जा रहे हैं। बताया जा रहा है फिलहाल विश्वविद्यालय में 68 हजार छात्र हैं जबकि हर साल करीब 20 हजार नए छात्र दाखिला लेते हैं। पिछले साल 10 अगस्त तक दाखिले की सभी प्रक्रिया पूरी कर ली गई थी लेकिन इस बार अभी तक कोर्स को मान्यता नहीं मिलने से दाखिले की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है। 

ये भी पढ़ें - महंगी रेफ्रेंस बुक खरीदवाने वाले स्कूलों में कसेगा शिकंजा, 17 अधिकारियों की टीम की गई गठित

यहां बता दें कि किसी भी विश्वविद्यालय में कोर्स को मान्यता देने से पहले यूजीसी की टीम वहां का दौरा करती है और सभी मानकों की जांच करने के बाद ही मान्यता दी जाती है। बता दें कि उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में फैकल्टी की कमी के चलते कोर्स को मान्यता नहीं दी गई है। गौर करने वाली बात है कि जिन छात्रों को संस्थागत या जो छात्र प्राईवेट से परीक्षा देना चाहते हैं उनके लिए यूओयू के अलावा दूसरा विकल्प नहीं बचता है। इस वजह से यहां छात्रों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। 


विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर आर सी मिश्रा ने कहा कि यूजीसी से अभी सिर्फ 5 कोर्स की अनुमति मिली है। विश्वविद्यालय की ओर से जल्द ही यूजीसी में प्रत्यावेदन किया जाएगा, ताकि जल्द से जल्द ही सभी पाठ्यक्रमों को संचालित करने की मान्यता मिल सके।

 

Todays Beets: