Sunday, September 23, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

प्रदेश भाजपा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, राष्ट्रीय प्रतीक के गलत इस्तेमाल पर हो सकती है जेल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रदेश भाजपा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, राष्ट्रीय प्रतीक के गलत इस्तेमाल पर हो सकती है जेल

देहरादून। ऐसा लगता है कि सत्ता में आने के बाद उत्तराखंड में भाजपा नेताओं पर सत्ता का नशा चढ़ गया है। ऐसे में वे जानबूझ कर या अंजाने में नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। काशीपुर में आयोजित भाजपा कार्यसमिति की बैठक में आयोजकों के द्वारा मंच पर आए नेताओं को स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए जिसमें एक ओर अशोक स्तंभ का लाट छपा हुआ था और दूसरी तरफ भाजपा की प्रतीक चिन्ह कमल फूल बना हुआ था। ये प्रतीक चिन्ह भाजपा के सह महामंत्री (संगठन) शिवप्रकाश, प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू और मु्ख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत अन्य अतिथियों  को भेंट किए गए। बता दें कि निजी कार्यक्रमों में राष्ट्रीय प्रतीकों का इस्तेमाल कानूनन अपराध है। ऐसे में प्रदेश भाजपा पर कार्रवाई की जा सकती है। 

गौरतलब है कि काशीपुर में भाजपा कार्यसमिति की बैठक का आयोजन किया गया था। इस बैठक में प्रदेश के साथ की केन्द्रीय नेताओं ने भी शिरकत की थी। बैठक के आयोजकों के द्वारा मंच पर बैठे लोगों को स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए थे जिनमें एक तरफ अशोक का लाट बना हुआ था और दूसरी तरफ पार्टी का निशान था। अशोक की लाट का इस तरह से इस्तेमाल भारत के राज्य प्रतीक चिन्ह (अनुचित उपयोग का निषेध) अधिनियम-2005 के तहत कानूनन अपराध है। इसके दुरुपयोग पर कानून में सजा का भी प्रावधान है।

ये भी पढ़ें - निजी स्कूल सरकारी आदेशों की उड़ा रहे धज्जियां, चला रहे एनसीईआरटी के बजाय निजी प्रकाशकों की किताबें


यहां बता दें कि किसी भी निजी कार्यक्रमों में राष्ट्रीय प्रतीक का इस्तेमाल करना प्रतीक अधिनियम का उल्लंघन है और इसके तहत पार्टी के ऊपर कार्रवाई भी की जा सकती है। कानून के जानकारों का कहना है कि कोई भी निजी व्यक्ति, संस्था या कोई सियासी दल अशोक की लाट का इस्तेमाल नहीं कर सकता है।  नाम के इस कानून में साफ कर किया गया है कि भारत के प्रतीक चिन्ह का कोई भी निजी तौर पर इस्तेमाल नहीं कर सकते। ऐसा करने पर इस कानून के उल्लंघन पर सजा के साथ ही जुर्माने का भी प्रावधान है। अगर कोई प्रतीक चिह्न का गलत इस्तेमाल करता है तो इसी अधिनियम की धारा-7 में 2 साल तक की सजा और 5 हजार रुपये के जुर्माने के साथ दंड का भी प्रावधान है। 

 

Todays Beets: