Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

कांग्रेस सरकार में सिडकुल के तहत हुए निर्माण कार्यों की जांच करेगी SIT , त्रिवेंद्र रावत सरकार ने जारी किए आदेश

अंग्वाल संवाददाता
कांग्रेस सरकार में सिडकुल के तहत हुए निर्माण कार्यों की जांच करेगी SIT , त्रिवेंद्र रावत सरकार ने जारी किए आदेश

देहरादून । उत्तराखंड की त्रिवेंद्र रावत सरकार ने पूर्व की कांग्रेस सरकार के मंत्रियों को घेरने के लिए एक बड़ी जांच के निर्देश दिए हैं। इस बार रावत सरकार ने उत्तराखंड राज्य औद्योगिक विकास निगम लिमिटेड यानी सिडकुल से जुड़े एक घोटाले की जांच के आदेश दिए हैं। खबरों के अनुसार, इस जांच के लिए SIT का गठन किया गया है। जानकारी के मुताबिक , एक आईजी स्तर का अफसर इस एसआईटी का नेतृत्व करेगा। पूर्व की हरीश रावत सरकार के कार्यकाल के दौरान सिडकुल के तहत हुए सभी निर्माण कार्यों की जांच के लिए इस एसआईटी का गठन किया गया है। इसके लिए गृह मंत्रालय ने पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी को चिट्ठी भेज दी है। 

बता दें कि वर्ष 2012 से 17 के बीच राज्य में कांग्रेस की हरीश रावत और विजय बहुगुणा सरकार थी। इस बीच खबरें हैं कि सिडकुल में निर्माण कार्यों के दौरान काफी अनियमितताएं हुई, जिसके पीछे एक बड़े घोटाले को अंजाम दिया गया। इस सब के बीच रूद्रपुर जिले में घोटाले को अंजाम देने की सबसे ज्यादा शिकायतें पिछले दिनों सामने आईं थीं। करोड़ों के इस घोटाले में पिछले साल ही रावत सरकार ने एक अफसर को निलंबित किया था। लेकिन अब इस पूरे घोटाले की जांच का जिम्मा एसआईटी को दिया गया है।


विदित हो कि कांग्रेस शासनकाल के दौरान एनएच 74 के भूमि मुआवजे को लेकर भी एक घोटाला उजागर हुआ था, जिसकी जांच एक अन्य एसआईटी कर रही है। इस घोटाले में भी कई अधिकारी समेत एक IAS अफसर निलंबित हो चुके हैं।

Todays Beets: