Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

यूपीसीएल के बाद अब आयुर्वेद विश्वविद्यालय की परीक्षा जांच के घेरे में, साक्षात्कार पर लगी रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपीसीएल के बाद अब आयुर्वेद विश्वविद्यालय की परीक्षा जांच के घेरे में, साक्षात्कार पर लगी रोक

देहरादून। उत्तराखंड में अभी यूपीसीएल में जेई की भर्ती का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि अब एक और परीक्षा में गड़बड़ी का मामला सामने आया है। इसमें आयुर्वेद विश्वविद्यालय में हुए मेडिकल आॅफिसर की परीक्षा शामिल है। परीक्षा संचालकों पर इस बात का आरोप लगाया गया है कि अपने चहेतों को फायदा पहुंचाने के लिए न सिर्फ पुराने प्रश्नपत्रों को दोहराया गया बल्कि उसे लीक भी का दिया गया। आयुष मंत्री डाॅक्टर हरक सिंह रावत ने मामला संज्ञान में आते ही जांच के आदेश दिए हैं और साक्षात्कार पर रोक लगा दी है। 

 

गौरतलब है कि उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय ने रविवार को 19 सीटों पर मेडिकल आॅफिसर की भर्ती परीक्षा का आयोजन किया गया था जिसमें विश्वविद्यालय ने 798 छात्रों को ओएमआर शीट जांचने के बाद साक्षात्कार के लिए भेज दिया था। मंत्री हरक सिंह रावत ने बताया कि कई विधायकों और छात्रों के द्वारा मोबाइल पर यह सूचना दी गई कि परीक्षा के प्रश्नपत्र को लीक किया गया है। इसके बाद मंत्री ने स्वास्थ्य सचिव को परीक्षा की जांच के आदेश देने के साथ ही साक्षात्कार पर रोक लगा दी है। 


ये भी पढ़ें - राज्य के सीमांत गांव तक पहुंचा इंटरनेट, वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सीएम ने बच्चों से की बात,...

सैंपल पेपर से प्रश्नों की चोरी 

यहां बता दें कि लोगों का आरोप है कि कुछ छात्रों को 100 में से 99 अंक तक प्राप्त हुए हैं इससे परीक्षा को लेकर संदेह ज्यादा हो रहा है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि चहेतों को सवाल पहले से ही पता थे। यह भी आरोप लगाया है कि चहेतों के मोबाइल पर परीक्षा के सैंपल पेपर का कोड भी भेजा गया था। अभ्यर्थियों ने यह भी आरोप लगाया है कि प्रश्नपत्र डाॅक्टर गोविंद पारिख के सैंपल पेपर से पूरी तरह से काॅपी किया गया है। यही नहीं सैंपल पेपर में कुल 80 प्रश्न ही थे इस वजह से मूल प्रश्नपत्र पर भी जल्दीबाजी में 100 की जगह 80 ही लिख दिया गया। 

Todays Beets: