Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

प्रदेश सरकार ने किसानों को दिया बड़ा झटका, नहीं होगी ऋणमाफी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रदेश सरकार ने किसानों को दिया बड़ा झटका, नहीं होगी ऋणमाफी

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने राज्य के कर्ज में डूबे किसानों को बड़ा झटका दिया है। सरकार ने विधानसभा सत्र के दौरान कहा कि आय के सीमित संसाधन होने की वजह से किसानों के करोड़ों रुपये के कर्ज को माफ नहीं किया जा सकता है। सरकार की ओर से कहा गया कि किसानों को काॅपरेटिव बैंक की तरफ से मात्र 2 फीसदी ब्याज पर ऋण मुहैया कराया जा रहा है। बता दें कि विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना ने किसानों की ऋणमाफी का मुद्दा उठाया था। 

गौरतलब है कि राज्य में बड़ी संख्या में किसानों ने बैंक ऋण के कारण आत्महत्या की है। विपक्षी नेताओं के द्वारा भी कई बार ऋणमाफी का मुद्दा उठाया गया लेकिन सरकार ने मानसून सत्र के दौरान यह स्पष्ट कर दिया है कि किसानों की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। उन्हें काॅपरेटिव बैंक की ओर से मात्र 2 फीसदी ब्याज पर ऋण दिया जा रहा है। 

ये भी पढ़ें - रुड़की में 50 सवारियों से भरी बस आई हाईटेंशन तार की चपेट में, कई झुलसे, 1 की हालत गंभीर


यहां बता दें कि संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि किसान सरकार का योजना का लाभ उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पास आय के सीमित संसाधन हैं ऐसे में किसानों के करोड़ों रुपये के कर्ज को माफ नहीं किया जा सकता है। प्रकाश पंत ने कहा कि 30 अगस्त 2018 तक प्रदेश में फसली ऋण किसानों की संख्या 4 लाख 91 हजार 525 तक पहुंच गई है जिन्होंने 6522 करोड़ का ऋण लिया है। मंत्री ने कहा कि किसान राज्य और केंद्र की योजना से भी लाभ उठा रहे हैं। विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना ने यूपी सरकार की तर्ज पर प्रदेश के किसानों की कर्जमाफी की मांग की है। 

 

Todays Beets: