Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

उत्तरकाशी में गंगा नदी पर बना पुल टूटा, भारत-चीन सीमा और हर्षिल घाटी से संपर्क कटा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरकाशी में गंगा नदी पर बना पुल टूटा, भारत-चीन सीमा और हर्षिल घाटी से संपर्क कटा

उत्तरकाशी। उत्तराखंड में आई भयानक आपदा के दौरान गंगोरी इलाके में अस्सी गंगा नदी के ऊपर बना लोहे का पुल गुरुवार को अचानक टूट गया। इसकी वजह से गंगा घाटी का मुख्यालय से संपर्क टूट गया है। वहीं भारत-चीन सीमा के अलावा खबसूरत हर्षिल घाटी का संपर्क भी बिल्कुल खत्म हो गया है। पुल टूटने से गंगोत्री घाटी भी एकदम अलग-थलग पड़ गई है और सड़क पर कई किलोमीटर तक लंबा जाम लग गया है। 

ट्रक चालक फरार

गौरतलब है कि उत्तरकाशी जिले के गंगोरी इलाके में मौजूद यह पुल उस वक्त टूट गया जब इस पर से एक ओवरलोडेड ट्रक गुजर रहा था। पुल किनारों से भी उखड़ गया। बता दें कि इस पुल पर भारी वाहनों की आवाजाही पर पहले से ही रोक लगी हुई थी लेकिन प्रशासन की लापरवाही के चलते यहां से भारी वाहनों का आना-जाना जारी था।  पुल के टूटने की खबर मिलते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया। पुलिस के मौके पर पहुंचने के पहले ही चालक ट्रक को छोड़कर फरार हो गया था।

ये भी पढ़ें -साल 2015 में ऊर्जा निगम में हुई भर्ती परीक्षा को सरकार ने किया निरस्त, जांच में मिली गड़बड़ी के...


किसी के हताहत होने की खबर नहीं

आपको बता दें कि गंगोरी नदी पर बना पुल उत्तरकाशी में आई भयानक आपदा  में बह गया था। इसके बाद सीमा सड़क संगठन ने कड़ी मेहनत के बाद महज 20 दिनों में ही वैली ब्रिज तैयार किया था। आपदा के इतने साल बीत जाने के बाद भी कमजोर हो चुके पुल की एक बार भी मरम्मत नहीं कराई गई। बता दें कि पुल के टूटने के बाद भी गनीमत यह रही कि इसमें किसी कि हताहत होने की कोई खबर नहीं मिली है।

Todays Beets: