Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

पिथौरागढ़ के ‘विवेक’ ने रचा इतिहास, सीडीएस की परीक्षा में पूरे देश में आया अव्वल  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पिथौरागढ़ के ‘विवेक’ ने रचा इतिहास, सीडीएस की परीक्षा में पूरे देश में आया अव्वल  

पिथौरागढ़। उत्तराखंड के छात्रों ने अपनी मेहनत और लगन से इन दिनों हर क्षेत्र में अपनी धाक जमाई हुई है। सीआईएससीई में 2 छात्रों के अव्वल आने के बाद अब पिथौरागढ़ के एक छात्र विवेक थरकोटी ने कंबाइंड डिफेंस सर्विस (सीडीएस) की परीक्षा में पूरे देश में अव्वल आकर न सिर्फ अपने माता-पिता बल्कि पूरे पिथौरागढ़ जिले का नाम रोशन किया है। बताया जा रहा है कि विवेक पिथौरागढ़ के एक छोटे से गांव लेलू के रहने वाले हैं। 

गौरतलब है कि जिला मुख्यालय से महज 6 किलोमीटर दूर लेलू गांव के रहने वाले विवेक थरकोटी ने इस वर्ष सीडीएस की परीक्षा में देश में अव्वल स्थान प्राप्त किया है। बता दें कि विवेक ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई वड्डा कस्बे के विश्व भारती पब्लिक स्कूल से की है और इसके बाद एशियन एकेडमी स्कूल से 8वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद घोड़ाखाल सैनिक स्कूल में आगे की पढ़ाई की, सैनिक स्कूल से इंटरमीडिएट करने के बाद पिथौरागढ़ महाविद्यालय से बीएससी और एमए करने के बाद उन्होंने सीडीएस की परीक्षा में सफलता हासिल की।  

ये भी पढ़ें - टिहरी झील में आयोजित बैठक को कांग्रेस ने मौजमस्ती और फोटो सेशन बताया, सरकार से इस्तीफे की मांग


बता दें कि विवेक ने अपनी सफलता का श्रेय ग्रामीण बैंक में कार्यरत पिता श्याम सिंह थरकोटी और शिक्षिका माता निर्मला थरकोटी सहित गुरुजनों को दिया है। स्कीइंग, रिवर राफ्टिंग, पर्वतारोहण जैसे साहसिक खेलों में रुचि रखने वाले विवेक ने 9वीं कक्षा के बाद ही सेना ज्वाइन करने का लक्ष्य तय कर लिया था और कड़ी मेहनत के बाद उन्होंने देश की प्रतिष्ठित परीक्षा में शानदार सफलता हासिल की है। 

Todays Beets: