Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

ऋषिकेश के ‘चायवाले’ के बेटे ने मां-बाप का सीना किया चौड़ा, जेईई के बाद 12वीं में भी किया टाॅप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ऋषिकेश के ‘चायवाले’ के बेटे ने मां-बाप का सीना किया चौड़ा, जेईई के बाद 12वीं में भी किया टाॅप

देहरादून। किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति में गरीबी और खराब आर्थिक स्थिति आड़े नहीं आती है। यह बात ऋषिकेश के एक चाय वाले के बेटे पर पूरी तरह से फिट बैठती है। ऋषिकेश पब्लिक स्कूल के छात्र व्योम ने कुछ ही दिन पहले जेईई मेन परीक्षा में भी अपनी काबलियत का लोहा मनवाया था। बता दें कि व्योम ने 12वीं की परीक्षा में भी टॉप किया है। 

गौरतलब है कि सोमवार को घोषित आईएससी 12वीं के परीक्षा परिणामों में नगर के शीर्ष पर रहे व्योम गुप्ता ने न सिर्फ अपने स्कूल बल्कि शहर का नाम भी रोशन किया। बता दें कि व्योम गुप्ता के पिता संजय गुप्ता रेलवे रोड पर करीब दो दशक से चाय की ठेली लगाकर अपनी आजीविका कमा रहे हैं। व्योम ने अपनी कामयाबी का श्रेय पिता अपने माता-पिता और शिक्षकों को दी है। व्योम का सपना है कि वह एयरोनाॅटिकल इंजीनियर बनकर देश की सेवा करना चाहते हैं। व्योम ने करीब 8 से 9 घंटे की कड़ी मेहनत से जेईई मेन परीक्षा में सफलता हासिल की है। इसके अलावा एक अन्य छात्र ने भी मिसाल कायम की है। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड के आईजी(कानून व्यवस्था) के बेटे ‘आर्यमान’ ने सीआईएससीई में हासिल किया 98 फीसदी अंक,...


सौरभ ने बिना ट्यूशन हासिल की कामयाबी  

आईसीएसई 10वीं की परीक्षा में नगर में शीर्ष पर रहे ओमकारानंद सरस्वती निलायम के छात्र सौरभ रणाकोटी ने बिना ट्यूशन के ही सफलता हासिल की। बकौल सौरभ पढ़ाई में उन्हें बहन ने हमेशा सहयोग किया। पिता मोहनलाल रणाकोटी रीता इंटर कॉलेज गढ़ी श्यामपुर में शिक्षक हैं। वह आगे एमबीबीएस की पढ़ाई के बाद बतौर डॉक्टर समाज की सेवा करना चाहता है। वह प्रतिदिन करीब 4-पांच घंटे पढ़ाई करता रहा है। सौरभ ने अपनी कामयाबी का श्रेय क्लास टीचर दिव्या मैम के अलावा माता, पिता और बहन को दिया। 

 

Todays Beets: