Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

नैनी झील के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, 10 बार पहुंची शून्य के स्तर से नीचे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नैनी झील के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, 10 बार पहुंची शून्य के स्तर से नीचे

नैनीताल। सरोवर नगरी के नाम से दुनिया भर में मशहूर नैनीताल के नैनी झील के अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगा है। पीने के पानी के लिए झीलों पर बढ़त निर्भरता के कारण इसका जलस्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है। पिछले 14 सालों में इस झील का स्तर 10 बार शून्य तक पहुंच गया है। बता दें कि शून्य वह स्थिति होती है जब झील में पानी की उपलब्धता न्यूनतम स्तर से भी नीचे पहुंच जाता है। ऐसी स्थिति लगातार रहने से झील के सूखने का खतरा बढ़ गया है। 

झील की पानी का स्तर हुआ शून्य

गौरतलब है कि नैनीताल पूरी दुनिया में अपनी झीलों के चलते सरोवर नगरी के नाम से मशहूर है। बता दें कि नैनी झील में 90.99 फीट की सतह से जब पानी का स्तर 12 फीट से नीचे चला जाता है, तब उसे शून्य स्तर माना जाता है। नैनी झील पुनर्जीवीकरण पर आयोजित सेमिनार में सेंटर फॉर इकोलॉजी डेवलपमेंट एंड रिसर्च (सीईडीएआर) उत्तराखंड ने इस हकीकत को साझा किया है। अगर हालात इसी तरह से रहे तो लोगों को पीने का पानी भी नसीब नहीं होगा। 


ये भी पढ़ें - शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ाः हरिद्वार में तहसील प्रशासन को नहीं मिल रहे शिक्षकों के प्रमाण पत्र, ए...

संरक्षण का कोई उपाय नहीं

यहां बता दें कि सेमिनार में इस बात की भी जानकारी दी गई कि नैनी झील में 1923 और 1980 में ही पानी का स्तर शून्य पर पहुंचा था। बढ़ती आबादी और आने वाले पर्यटकों की पानी की जरूरतों के मद्देनजर आज झील से रोजाना करीब 16 मीलियन लीटर पानी निकाला जा रहा है लेकिन झील के संरक्षण का कोई उपाय नहीं किया जा रहा है। बढ़ते प्रदूषण, निर्माण और गंदगी के कारण झील में हर साल करीब 24 सेंटीमीटर गाद जमा होती जा रही है।  

Todays Beets: