Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

नैनी झील के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, 10 बार पहुंची शून्य के स्तर से नीचे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नैनी झील के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, 10 बार पहुंची शून्य के स्तर से नीचे

नैनीताल। सरोवर नगरी के नाम से दुनिया भर में मशहूर नैनीताल के नैनी झील के अस्तित्व पर खतरा मंडराने लगा है। पीने के पानी के लिए झीलों पर बढ़त निर्भरता के कारण इसका जलस्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है। पिछले 14 सालों में इस झील का स्तर 10 बार शून्य तक पहुंच गया है। बता दें कि शून्य वह स्थिति होती है जब झील में पानी की उपलब्धता न्यूनतम स्तर से भी नीचे पहुंच जाता है। ऐसी स्थिति लगातार रहने से झील के सूखने का खतरा बढ़ गया है। 

झील की पानी का स्तर हुआ शून्य

गौरतलब है कि नैनीताल पूरी दुनिया में अपनी झीलों के चलते सरोवर नगरी के नाम से मशहूर है। बता दें कि नैनी झील में 90.99 फीट की सतह से जब पानी का स्तर 12 फीट से नीचे चला जाता है, तब उसे शून्य स्तर माना जाता है। नैनी झील पुनर्जीवीकरण पर आयोजित सेमिनार में सेंटर फॉर इकोलॉजी डेवलपमेंट एंड रिसर्च (सीईडीएआर) उत्तराखंड ने इस हकीकत को साझा किया है। अगर हालात इसी तरह से रहे तो लोगों को पीने का पानी भी नसीब नहीं होगा। 


ये भी पढ़ें - शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ाः हरिद्वार में तहसील प्रशासन को नहीं मिल रहे शिक्षकों के प्रमाण पत्र, ए...

संरक्षण का कोई उपाय नहीं

यहां बता दें कि सेमिनार में इस बात की भी जानकारी दी गई कि नैनी झील में 1923 और 1980 में ही पानी का स्तर शून्य पर पहुंचा था। बढ़ती आबादी और आने वाले पर्यटकों की पानी की जरूरतों के मद्देनजर आज झील से रोजाना करीब 16 मीलियन लीटर पानी निकाला जा रहा है लेकिन झील के संरक्षण का कोई उपाय नहीं किया जा रहा है। बढ़ते प्रदूषण, निर्माण और गंदगी के कारण झील में हर साल करीब 24 सेंटीमीटर गाद जमा होती जा रही है।  

Todays Beets: