Friday, April 20, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

रुद्रप्रयाग। उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने और पलायन को रोकने के लिए रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल की तरफ से काफी कोशिशें  की जा रही हैं। उनके इस काम में उनकी पत्नी ऊषा भी बखूबी उनका साथ दे रही हैं। डीएम रुद्रप्रयाग राजकीय बालिका इंटर काॅलेज में जब निरीक्षण के लिए पहुंचे तो शिक्षिकाओं की कमी को देखकर काफी दुखी हुए। उन्होंने घर आकर अपनी पत्नी से इस बात का जिक्र किया और उनसे स्कूल के बच्चों को पढ़ाने का आग्रह किया तो वे भी फौरन तैयार हो गईं। अब वे 9वीं और 10वीं के बच्चों को दो घंटे विज्ञान पढ़ा रही हैं।

जिलाधिकारी का प्रयास रंग लाया 

गौरतलब है कि प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था की हालत शिक्षकों की कमी के चलते काफी खराब है। शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए की जा रही सरकारी कोशिशों के बीच रु    द्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने एक मिसाल पेश की है। आपको बता दें कि जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल जिले में शिक्षा सुधार के साथ पलायन पर रोक लगाने के लिए भी काफी प्रयास कर रहे हैं। वह समय-समय पर स्कूलों का निरीक्षण कर रहे हैं। इसके अलावा वह बच्चों को पढ़ा भी रहे हैं। डीएम की पहाड़ के प्रति पीड़ा को देखते हुए उनकी पत्नी भी उनका साथ दे रही हैं।

ये भी पढ़ें - दून में सक्रिय भू-माफियाओं पर हाईकोर्ट सख्त, आईजी को दिए शिकंजा कसने के आदेश   

छात्राओं का भविष्य संवार रहीं


राज्य के पहाड़ी इलाकों में शिक्षा की बेहतर व्यवस्था हो और वहां से पलायन को रोकने में मंगेश का साथ उनकी पत्नी ऊषा भी दे रही हैं। पति मंगेश घिल्डियाल के प्रयासों को और मजबूती दिलाने के लिए ऊषा ने रुद्रप्रयाग में ही राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में विज्ञान पढ़ाना शुरू कर दिया है। बिना किसी स्वार्थ और पैसे के उषा घिल्डियाल कक्षा 9 और 10वीं की छात्राओं को विज्ञान पढ़ा रही हैं। वह प्रतिदिन 2 से ढाई घंटे स्कूल में बच्चों को पढ़ा रही हैं। 

वैज्ञानिक रह चुकी हैं ऊषा

आपको बता दें कि ऊषा घिल्डियाल पंतनगर कृषि विश्व विद्यालय में बतौर साइंटिस्ट काम कर चुकी हैं और इन दिनों वह बच्चों के भविष्य को सवांरने में जुटी हैं। डीएम और उनकी पत्नी की तरफ से किए जा रहे इस शानदार प्रयास का रुद्रप्रयाग के साथ दूसरी जगहों पर भी खूब सराहना हो रही है।

Todays Beets: