Friday, July 21, 2017

Breaking News

   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||   नियंत्रण रेखा के पास एक चौकी में जवान ने मेजर को गोली मारी, मेजर की मौत    ||   नियंत्रण रेखा पर गुरेज सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश    ||   मानवाधिकार आयोग का आदेश, सेना की जीप से बंधे अहमद डार को दें 10 लाख मुआवजा    ||   सुरजेवाला ने कहा- सनसनी न फैलाएं, 'हां' चीन के दूत से मिले थे राहुल गांधी    ||   देखें, मुजफ्फरनगर के बीजेपी MLA उमेश मलिक ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जेल भेजने की धमकी दी, मलिक धरने में बैठे टीचर्स से मिले थे    ||   हैम्बर्ग में 7 जुलाई को G20 समिट के लिए ब्रिक्स नेता होंगे शामिल, पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति भी लेंगे हिस्सा    ||

रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

रुद्रप्रयाग। उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने और पलायन को रोकने के लिए रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल की तरफ से काफी कोशिशें  की जा रही हैं। उनके इस काम में उनकी पत्नी ऊषा भी बखूबी उनका साथ दे रही हैं। डीएम रुद्रप्रयाग राजकीय बालिका इंटर काॅलेज में जब निरीक्षण के लिए पहुंचे तो शिक्षिकाओं की कमी को देखकर काफी दुखी हुए। उन्होंने घर आकर अपनी पत्नी से इस बात का जिक्र किया और उनसे स्कूल के बच्चों को पढ़ाने का आग्रह किया तो वे भी फौरन तैयार हो गईं। अब वे 9वीं और 10वीं के बच्चों को दो घंटे विज्ञान पढ़ा रही हैं।

जिलाधिकारी का प्रयास रंग लाया 

गौरतलब है कि प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था की हालत शिक्षकों की कमी के चलते काफी खराब है। शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए की जा रही सरकारी कोशिशों के बीच रु    द्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने एक मिसाल पेश की है। आपको बता दें कि जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल जिले में शिक्षा सुधार के साथ पलायन पर रोक लगाने के लिए भी काफी प्रयास कर रहे हैं। वह समय-समय पर स्कूलों का निरीक्षण कर रहे हैं। इसके अलावा वह बच्चों को पढ़ा भी रहे हैं। डीएम की पहाड़ के प्रति पीड़ा को देखते हुए उनकी पत्नी भी उनका साथ दे रही हैं।

ये भी पढ़ें - दून में सक्रिय भू-माफियाओं पर हाईकोर्ट सख्त, आईजी को दिए शिकंजा कसने के आदेश   

छात्राओं का भविष्य संवार रहीं

राज्य के पहाड़ी इलाकों में शिक्षा की बेहतर व्यवस्था हो और वहां से पलायन को रोकने में मंगेश का साथ उनकी पत्नी ऊषा भी दे रही हैं। पति मंगेश घिल्डियाल के प्रयासों को और मजबूती दिलाने के लिए ऊषा ने रुद्रप्रयाग में ही राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में विज्ञान पढ़ाना शुरू कर दिया है। बिना किसी स्वार्थ और पैसे के उषा घिल्डियाल कक्षा 9 और 10वीं की छात्राओं को विज्ञान पढ़ा रही हैं। वह प्रतिदिन 2 से ढाई घंटे स्कूल में बच्चों को पढ़ा रही हैं। 

वैज्ञानिक रह चुकी हैं ऊषा

आपको बता दें कि ऊषा घिल्डियाल पंतनगर कृषि विश्व विद्यालय में बतौर साइंटिस्ट काम कर चुकी हैं और इन दिनों वह बच्चों के भविष्य को सवांरने में जुटी हैं। डीएम और उनकी पत्नी की तरफ से किए जा रहे इस शानदार प्रयास का रुद्रप्रयाग के साथ दूसरी जगहों पर भी खूब सराहना हो रही है।

Todays Beets: