Wednesday, January 24, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने पेश की अनूठी मिसाल, स्कूल में लड़कियों को पढ़ा रहीं साइंस

रुद्रप्रयाग। उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने और पलायन को रोकने के लिए रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल की तरफ से काफी कोशिशें  की जा रही हैं। उनके इस काम में उनकी पत्नी ऊषा भी बखूबी उनका साथ दे रही हैं। डीएम रुद्रप्रयाग राजकीय बालिका इंटर काॅलेज में जब निरीक्षण के लिए पहुंचे तो शिक्षिकाओं की कमी को देखकर काफी दुखी हुए। उन्होंने घर आकर अपनी पत्नी से इस बात का जिक्र किया और उनसे स्कूल के बच्चों को पढ़ाने का आग्रह किया तो वे भी फौरन तैयार हो गईं। अब वे 9वीं और 10वीं के बच्चों को दो घंटे विज्ञान पढ़ा रही हैं।

जिलाधिकारी का प्रयास रंग लाया 

गौरतलब है कि प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था की हालत शिक्षकों की कमी के चलते काफी खराब है। शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए की जा रही सरकारी कोशिशों के बीच रु    द्रप्रयाग के जिलाधिकारी की पत्नी ने एक मिसाल पेश की है। आपको बता दें कि जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल जिले में शिक्षा सुधार के साथ पलायन पर रोक लगाने के लिए भी काफी प्रयास कर रहे हैं। वह समय-समय पर स्कूलों का निरीक्षण कर रहे हैं। इसके अलावा वह बच्चों को पढ़ा भी रहे हैं। डीएम की पहाड़ के प्रति पीड़ा को देखते हुए उनकी पत्नी भी उनका साथ दे रही हैं।

ये भी पढ़ें - दून में सक्रिय भू-माफियाओं पर हाईकोर्ट सख्त, आईजी को दिए शिकंजा कसने के आदेश   

छात्राओं का भविष्य संवार रहीं


राज्य के पहाड़ी इलाकों में शिक्षा की बेहतर व्यवस्था हो और वहां से पलायन को रोकने में मंगेश का साथ उनकी पत्नी ऊषा भी दे रही हैं। पति मंगेश घिल्डियाल के प्रयासों को और मजबूती दिलाने के लिए ऊषा ने रुद्रप्रयाग में ही राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में विज्ञान पढ़ाना शुरू कर दिया है। बिना किसी स्वार्थ और पैसे के उषा घिल्डियाल कक्षा 9 और 10वीं की छात्राओं को विज्ञान पढ़ा रही हैं। वह प्रतिदिन 2 से ढाई घंटे स्कूल में बच्चों को पढ़ा रही हैं। 

वैज्ञानिक रह चुकी हैं ऊषा

आपको बता दें कि ऊषा घिल्डियाल पंतनगर कृषि विश्व विद्यालय में बतौर साइंटिस्ट काम कर चुकी हैं और इन दिनों वह बच्चों के भविष्य को सवांरने में जुटी हैं। डीएम और उनकी पत्नी की तरफ से किए जा रहे इस शानदार प्रयास का रुद्रप्रयाग के साथ दूसरी जगहों पर भी खूब सराहना हो रही है।

Todays Beets: