Thursday, May 24, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

अल्मोड़ा में महिलाओं का शराब बेचने के खिलाफ अभियान, समर्थन में उतरे विधायक 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अल्मोड़ा में महिलाओं का शराब बेचने के खिलाफ अभियान, समर्थन में उतरे विधायक 

अल्मोड़ा। उत्तराखंड में शराब की बिक्री को लेकर महिलाओं ने जबर्दस्त तरीके से विरोध किया है। अल्मोड़ा के खीड़ा इलाके में शराब बेचने के लिए पहुंची 2 पिकअप वैन को गांव की महिलाओं ने 16 घंटों तक घेरकर रखा और शराब की बिक्री नहीं होने दी। इस दौरान महिलाओं ने पुलिस पर अभद्रता करने का भी आरोप लगाया। महिलाओं ने दोषी पुलिस वालों पर कार्रवाई की भी मांग की है। महिलाओं ने यह भी आरोप लगाया कि गांव में शादी की जानकारी होने के बाद भी शराब की गाड़ियों को जानबूझकर भेजा गया था। इलाके के विधायक महेश नेगी ने मामले की जानकारी होने पर कहा कि स्थिति से मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि इलाके में जबर्दस्ती शराब बेचना और पुलिस भेजना गलत है। विधायक ने जनता का पूरा साथ देने का आश्वासन दिया है। 

गौरतलब है कि खीड़ा क्षेत्र में देसी और विदेशी दोनों तरह की शराब की दुकानें सरकार की तरफ से स्वीकृत हैं। गांव वालांे के विरोध की वजह से आबकारी विभाग ने यहां ठेकेदारों को मोबाइल वाहनों के द्वारा शराब बेचने की अनुमति दी है। शनिवार शाम को भी शराब की पेटियां लेकर 2 पिकअप वैन यहां शराब बेचने के लिए आई लेकिन ग्रामीण महिलाओं ने वैन को घेरकर विरोध शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि वे अपनी जान दे देंगे लेकिन शराब नहीं बिकने देंगे। अगले दिन द्वारहाट के थानाध्यक्ष के आने पर दोबारा शराब की गाड़ियां नहीं भेजने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का अश्वासन के बाद महिलाओं ने गाड़ियों को छोड़ा। 


ये भी पढ़ें - कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

यहां बता दें कि शराब की गाड़ी को लेकर महिलाओं और पुलिस में खूब बहस भी हुई। महिलाओं ने पुलिस पर उनके साथ अभद्रता करने का भी आरोप लगाया। इलाके के विधायक महेश नेगी ने कहा पूरे घटनाक्रम से मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि वे पूरी तरह से जनता के साथ हैं।

Todays Beets: