Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अल्मोड़ा में महिलाओं का शराब बेचने के खिलाफ अभियान, समर्थन में उतरे विधायक 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अल्मोड़ा में महिलाओं का शराब बेचने के खिलाफ अभियान, समर्थन में उतरे विधायक 

अल्मोड़ा। उत्तराखंड में शराब की बिक्री को लेकर महिलाओं ने जबर्दस्त तरीके से विरोध किया है। अल्मोड़ा के खीड़ा इलाके में शराब बेचने के लिए पहुंची 2 पिकअप वैन को गांव की महिलाओं ने 16 घंटों तक घेरकर रखा और शराब की बिक्री नहीं होने दी। इस दौरान महिलाओं ने पुलिस पर अभद्रता करने का भी आरोप लगाया। महिलाओं ने दोषी पुलिस वालों पर कार्रवाई की भी मांग की है। महिलाओं ने यह भी आरोप लगाया कि गांव में शादी की जानकारी होने के बाद भी शराब की गाड़ियों को जानबूझकर भेजा गया था। इलाके के विधायक महेश नेगी ने मामले की जानकारी होने पर कहा कि स्थिति से मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि इलाके में जबर्दस्ती शराब बेचना और पुलिस भेजना गलत है। विधायक ने जनता का पूरा साथ देने का आश्वासन दिया है। 

गौरतलब है कि खीड़ा क्षेत्र में देसी और विदेशी दोनों तरह की शराब की दुकानें सरकार की तरफ से स्वीकृत हैं। गांव वालांे के विरोध की वजह से आबकारी विभाग ने यहां ठेकेदारों को मोबाइल वाहनों के द्वारा शराब बेचने की अनुमति दी है। शनिवार शाम को भी शराब की पेटियां लेकर 2 पिकअप वैन यहां शराब बेचने के लिए आई लेकिन ग्रामीण महिलाओं ने वैन को घेरकर विरोध शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि वे अपनी जान दे देंगे लेकिन शराब नहीं बिकने देंगे। अगले दिन द्वारहाट के थानाध्यक्ष के आने पर दोबारा शराब की गाड़ियां नहीं भेजने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का अश्वासन के बाद महिलाओं ने गाड़ियों को छोड़ा। 


ये भी पढ़ें - कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

यहां बता दें कि शराब की गाड़ी को लेकर महिलाओं और पुलिस में खूब बहस भी हुई। महिलाओं ने पुलिस पर उनके साथ अभद्रता करने का भी आरोप लगाया। इलाके के विधायक महेश नेगी ने कहा पूरे घटनाक्रम से मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि वे पूरी तरह से जनता के साथ हैं।

Todays Beets: