Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

अल्मोड़ा में महिलाओं का शराब बेचने के खिलाफ अभियान, समर्थन में उतरे विधायक 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अल्मोड़ा में महिलाओं का शराब बेचने के खिलाफ अभियान, समर्थन में उतरे विधायक 

अल्मोड़ा। उत्तराखंड में शराब की बिक्री को लेकर महिलाओं ने जबर्दस्त तरीके से विरोध किया है। अल्मोड़ा के खीड़ा इलाके में शराब बेचने के लिए पहुंची 2 पिकअप वैन को गांव की महिलाओं ने 16 घंटों तक घेरकर रखा और शराब की बिक्री नहीं होने दी। इस दौरान महिलाओं ने पुलिस पर अभद्रता करने का भी आरोप लगाया। महिलाओं ने दोषी पुलिस वालों पर कार्रवाई की भी मांग की है। महिलाओं ने यह भी आरोप लगाया कि गांव में शादी की जानकारी होने के बाद भी शराब की गाड़ियों को जानबूझकर भेजा गया था। इलाके के विधायक महेश नेगी ने मामले की जानकारी होने पर कहा कि स्थिति से मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि इलाके में जबर्दस्ती शराब बेचना और पुलिस भेजना गलत है। विधायक ने जनता का पूरा साथ देने का आश्वासन दिया है। 

गौरतलब है कि खीड़ा क्षेत्र में देसी और विदेशी दोनों तरह की शराब की दुकानें सरकार की तरफ से स्वीकृत हैं। गांव वालांे के विरोध की वजह से आबकारी विभाग ने यहां ठेकेदारों को मोबाइल वाहनों के द्वारा शराब बेचने की अनुमति दी है। शनिवार शाम को भी शराब की पेटियां लेकर 2 पिकअप वैन यहां शराब बेचने के लिए आई लेकिन ग्रामीण महिलाओं ने वैन को घेरकर विरोध शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि वे अपनी जान दे देंगे लेकिन शराब नहीं बिकने देंगे। अगले दिन द्वारहाट के थानाध्यक्ष के आने पर दोबारा शराब की गाड़ियां नहीं भेजने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का अश्वासन के बाद महिलाओं ने गाड़ियों को छोड़ा। 


ये भी पढ़ें - कैलाश मानसरोवर यात्रा के शुरू होने से पहले यात्रियों को केन्द्र का तोहफा, अब आसान हो जाएगा सफर

यहां बता दें कि शराब की गाड़ी को लेकर महिलाओं और पुलिस में खूब बहस भी हुई। महिलाओं ने पुलिस पर उनके साथ अभद्रता करने का भी आरोप लगाया। इलाके के विधायक महेश नेगी ने कहा पूरे घटनाक्रम से मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि वे पूरी तरह से जनता के साथ हैं।

Todays Beets: