Saturday, November 25, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

महिला तकनीकी संस्थान के संविदा शिक्षक ने निदेशक पर लगाए गंभीर आरोप, हटाने की मांग को लेकर बैठे धरने पर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
महिला तकनीकी संस्थान के संविदा शिक्षक ने निदेशक पर लगाए गंभीर आरोप, हटाने की मांग को लेकर बैठे धरने पर

देहरादून। महिला तकनीकी संस्थान (डब्ल्यूआईटी) के तीन दर्जन से ज्यादा संविदा शिक्षकों और लैब टेक्नीशियनों ने संस्थान की निदेशक के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। ये शिक्षक और लैब टेक्नीशियन कैंपस में निदेशक को पद से हटाने की मांग करते हुए धरने पर बैठ गए हैं। इन शिक्षकों का आरोप है कि निदेशक तकनीकी विश्वविद्यालय सभी नियमों को ताक पर रखते हुए शिक्षकों की नियुक्ति कर रहे हैं। संस्थान में संविदा पर नियुक्त शिक्षक पांच सालों से ज्यादा का समय बिता चुके हैं लेकिन नियमित नियुक्ति के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा में संविदा शिक्षक को मौका ही नहीं दिया गया। शिक्षकों ने यह भी आरोप लगाया कि बाहर से पांच शिक्षकों की नियुक्ति कर दी गई।  धरने पर बैठे शिक्षकों में रेणू सचान, विजय सैणी, अरुण धीमान और तनवी कौर ने आरोप लगाया कि निदेशक ने उन्हें बायोमैट्रिक से हाजिरी भरने से रोक दिया। शिक्षकों का कहना है कि निदेशक के इस रवैये को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। संविदा पर काम करने वाले शिक्षकों ने यह भी आरोप लगाया कि निदेशक जबरन उनसे पीएबीएस का फार्म भरवाना चाहती है ताकि वे स्थायी होने का दावा ही न कर सकें। उन्होंने कहा कि जब तक निदेशक को हटाया नहीं जाएगा, वह धरना समाप्त नहीं करेंगे। दूसरी तरफ संस्थान की निदेशक अलकनंदा अशोक ने शिक्षकों के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि वे उनपर दवाब बनाना चाहते हैं और तकनीकी विश्वविद्यालय के इंटरव्यू में शामिल ही नहीं होना चाहते हैं। इन टीचरों ने इंटरव्यू के फाॅर्म भी नहीं भरे हैं जबकि संविदा शिक्षक, सरकार के नियम-कानूनों के तहत ही स्थायी होते हैं।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड के ‘प्रदीप’ ने महाराष्ट्र के संतोष का तोड़ा रिकाॅर्ड, साइकिल से यात्रा का बनाया नया ...

 


 

 

Todays Beets: