Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

महिला तकनीकी संस्थान के संविदा शिक्षक ने निदेशक पर लगाए गंभीर आरोप, हटाने की मांग को लेकर बैठे धरने पर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
महिला तकनीकी संस्थान के संविदा शिक्षक ने निदेशक पर लगाए गंभीर आरोप, हटाने की मांग को लेकर बैठे धरने पर

देहरादून। महिला तकनीकी संस्थान (डब्ल्यूआईटी) के तीन दर्जन से ज्यादा संविदा शिक्षकों और लैब टेक्नीशियनों ने संस्थान की निदेशक के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। ये शिक्षक और लैब टेक्नीशियन कैंपस में निदेशक को पद से हटाने की मांग करते हुए धरने पर बैठ गए हैं। इन शिक्षकों का आरोप है कि निदेशक तकनीकी विश्वविद्यालय सभी नियमों को ताक पर रखते हुए शिक्षकों की नियुक्ति कर रहे हैं। संस्थान में संविदा पर नियुक्त शिक्षक पांच सालों से ज्यादा का समय बिता चुके हैं लेकिन नियमित नियुक्ति के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा में संविदा शिक्षक को मौका ही नहीं दिया गया। शिक्षकों ने यह भी आरोप लगाया कि बाहर से पांच शिक्षकों की नियुक्ति कर दी गई।  धरने पर बैठे शिक्षकों में रेणू सचान, विजय सैणी, अरुण धीमान और तनवी कौर ने आरोप लगाया कि निदेशक ने उन्हें बायोमैट्रिक से हाजिरी भरने से रोक दिया। शिक्षकों का कहना है कि निदेशक के इस रवैये को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। संविदा पर काम करने वाले शिक्षकों ने यह भी आरोप लगाया कि निदेशक जबरन उनसे पीएबीएस का फार्म भरवाना चाहती है ताकि वे स्थायी होने का दावा ही न कर सकें। उन्होंने कहा कि जब तक निदेशक को हटाया नहीं जाएगा, वह धरना समाप्त नहीं करेंगे। दूसरी तरफ संस्थान की निदेशक अलकनंदा अशोक ने शिक्षकों के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि वे उनपर दवाब बनाना चाहते हैं और तकनीकी विश्वविद्यालय के इंटरव्यू में शामिल ही नहीं होना चाहते हैं। इन टीचरों ने इंटरव्यू के फाॅर्म भी नहीं भरे हैं जबकि संविदा शिक्षक, सरकार के नियम-कानूनों के तहत ही स्थायी होते हैं।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड के ‘प्रदीप’ ने महाराष्ट्र के संतोष का तोड़ा रिकाॅर्ड, साइकिल से यात्रा का बनाया नया ...

 


 

 

Todays Beets: