Sunday, February 17, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

क्या आतंकी बुरहान वानी के भाई की मौत का मुआवजा देकर मुफ्ती सरकार फिर खड़ा कर रही है कोई विवाद ?

अंग्वाल संवाददाता
क्या आतंकी बुरहान वानी के भाई की मौत का मुआवजा देकर मुफ्ती सरकार फिर खड़ा कर रही है कोई विवाद ?

श्रीनगर। आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद घाटी में मचा कोहराम नोटबंदी के बाद कम हो गया है। अपनी बड़ी कार्रवाई में भारतीय सेना ने आतंक को सौदागर बुरहान को मौत के घाट उतारा था। तब सरहद पार बैठे मौत के आतंकियों ने इस ऑपरेशन को भारत की दहशतगर्दी बताकर घाटी में खूब हंगामा कराया था। बहरहाल, आतंकी बुरहान को तो उसके किए की सज़ा मिल गई। मगर अब एक बार फिर वानी परिवार का नाम खबरों की वजह बन रहा है। दरअसल, महबूबा मुफ्ती सरकार ने बुरहान वानी के बड़े भाई खालिद वानी की मुठभेड़ में हुई हत्या के एवज में वानी परिवार को मुआवजा दिए जाने की घोषणा की है। खालिद वानी 13 अप्रैल 2015 को सेना के साथ हुए एक मुठभेड़ में मारा गया था। 

मुफ्ती सरकार की हो रही आलोचना 

खालिद वानी की मौत के बाद मुआवजा देने के मुफ्ती सरकार के फैसले की चारों तरफ आलोचना हो रही है। आपको बता दें कि जो मुआवजा वानी परिवार को दिया जाना है, वह उन आम नागरिकों को मिलता है जो कि आतंकी वारदातों या फिर आतंकवादियों के खिलाफ की गई सैन्य कार्रवाई में अपनी जान गंवाते हैं। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में पीडीपी और बीजेपी की सरकार है।

सेना का विरोध कर रही सरकार !


महबूबा मुफ्ती की सरकार द्वारा खालिद वानी की मौत के बदले मुआवजा देने की घोषणा करना सीधे तौर पर सेना के रुख का विरोध करता है। सेना ने साफ किया था कि खालिद हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी था और उसकी मौत मुठभेड़ के दौरान हुई थी। आपको बता दें कि किसी भी आतंकवादी या चरमपंथी की मौत के एवज में मुआवजा नहीं दिया जाता। 

कौन था बुरहान वानी ?

बुरहान मुजफ्फर वानी आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का कमांडर था। वानी कश्मीर में त्राल की अच्छी और संपन्न फैमिली से था। वानी का बड़ा भाई खालिद मुजफ्फर भी आतंकवादी था जो पिछले साल सुरक्षा बलों के हाथों मारा गया था। 

Todays Beets: