Monday, September 25, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

क्या आतंकी बुरहान वानी के भाई की मौत का मुआवजा देकर मुफ्ती सरकार फिर खड़ा कर रही है कोई विवाद ?

अंग्वाल संवाददाता
क्या आतंकी बुरहान वानी के भाई की मौत का मुआवजा देकर मुफ्ती सरकार फिर खड़ा कर रही है कोई विवाद ?

श्रीनगर। आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद घाटी में मचा कोहराम नोटबंदी के बाद कम हो गया है। अपनी बड़ी कार्रवाई में भारतीय सेना ने आतंक को सौदागर बुरहान को मौत के घाट उतारा था। तब सरहद पार बैठे मौत के आतंकियों ने इस ऑपरेशन को भारत की दहशतगर्दी बताकर घाटी में खूब हंगामा कराया था। बहरहाल, आतंकी बुरहान को तो उसके किए की सज़ा मिल गई। मगर अब एक बार फिर वानी परिवार का नाम खबरों की वजह बन रहा है। दरअसल, महबूबा मुफ्ती सरकार ने बुरहान वानी के बड़े भाई खालिद वानी की मुठभेड़ में हुई हत्या के एवज में वानी परिवार को मुआवजा दिए जाने की घोषणा की है। खालिद वानी 13 अप्रैल 2015 को सेना के साथ हुए एक मुठभेड़ में मारा गया था। 

मुफ्ती सरकार की हो रही आलोचना 

खालिद वानी की मौत के बाद मुआवजा देने के मुफ्ती सरकार के फैसले की चारों तरफ आलोचना हो रही है। आपको बता दें कि जो मुआवजा वानी परिवार को दिया जाना है, वह उन आम नागरिकों को मिलता है जो कि आतंकी वारदातों या फिर आतंकवादियों के खिलाफ की गई सैन्य कार्रवाई में अपनी जान गंवाते हैं। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में पीडीपी और बीजेपी की सरकार है।

सेना का विरोध कर रही सरकार !


महबूबा मुफ्ती की सरकार द्वारा खालिद वानी की मौत के बदले मुआवजा देने की घोषणा करना सीधे तौर पर सेना के रुख का विरोध करता है। सेना ने साफ किया था कि खालिद हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी था और उसकी मौत मुठभेड़ के दौरान हुई थी। आपको बता दें कि किसी भी आतंकवादी या चरमपंथी की मौत के एवज में मुआवजा नहीं दिया जाता। 

कौन था बुरहान वानी ?

बुरहान मुजफ्फर वानी आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का कमांडर था। वानी कश्मीर में त्राल की अच्छी और संपन्न फैमिली से था। वानी का बड़ा भाई खालिद मुजफ्फर भी आतंकवादी था जो पिछले साल सुरक्षा बलों के हाथों मारा गया था। 

Todays Beets: