Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

सीमाएं, सुरक्षा और सवाल

सीमाएं, सुरक्षा और सवाल

उत्तराखंड ... ऊंची हिमालयी चोटियों औरहिमनदियों से ढका देश का एक ऐसा राज्य, जो अपनी धार्मिक मान्यताओं और भूगोलिकविषमताओं के चलते एक अलग पहचान रखता है। चीन और नेपाल की सीमाओं से सटे उत्तराखंडके सीमांत इलाके सुरक्षा की नज़र से बेहद अहम हैं। ऊंचे पहाड़ और दुरूस्त इलाकोंमें सेंधमारी की खबरें आए दिन आम रहती हैं। कभी रात के अंधेरे में नेपाल सेतस्करों का चोरी छिपे राज्य में घुसना , कभी देश की सीमाओं में चीनी सैनिकों काअंदर तक घुस आना तो कभी ड्रोन के जरिए खुफिया जानकारी जुटाना। हर पल, हर वक्त इसबात का खतरा बना रहता है कि ज़रा सी चूक राज्य के साथ- साथ देश की सुरक्षा को संकटमें न डाल दे। हांलाकि सीमाओं पर ज़वानों की मुस्दैती हर बार खतरे को नाकाम कर देतीहै, बावजूद इसके राज्य की सीमाएं देश को पूर्ण सुरक्षा का अहसास नहीं करातीं। इसकीएक वजह यह भी कि जिन सुदूर और चड़ाई वालों इलाकों में सूबे की सीमाएं दूसरे देशोंसे मिलती हैं, वहां सुविधाओं के नाम पर महज कच्ची पक्की सड़क, संसाधनों का टोटानज़र आता है। हांलाकि राज्य को खतरा सीमाओं से ही नहीं, बल्कि उन असमाजिक तत्वोंसे भी है , जो उत्तराखंड को अशांति की राह पर ढकेलना चाहते हैं। अर्द्धकुंभ मेंआतंकी हमले की साजिश रचने की खबरों को कौन भूल पाया है। बहरहाल देश और समाज कीसुरक्षा में तैनात जवान अभी तक अपनी जिम्मेदारियों का बखूबी निभा रहे हैं, लेकिनऐसा न हो कि आने वाले वक्त में कोई बड़ी मुसीबत आती है, तो हम उसका सामने कैसे करपाएंगे। 


  

Todays Beets: