Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तराखंड: 38वें राष्ट्रीय खेलों का मेजबान

उत्तराखंड: 38वें राष्ट्रीय खेलों का मेजबान
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI देहरादून. खेल के लिहाज से साल 2018 उत्तराखंड के लिए काफीअहम माना जा रहा है। शायद इसलिए क्योंकि राज्य सरकार की पूरजोर कोशिशों की वजह सेआखिरकार 38वें राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी उत्तराखंड को मिल गई। हालांकि इस दौड़ में आंध्र प्रदेश औरतेलंगाना जैसे राज्य भी राष्ट्रीय खेलों पर अपनी दावेदारी पेश कर रहे थे, आखिर मेंयह सम्मान उत्तराखंड की झोली में आया। खेलों की मेजबानी राज्य को मिलना एक अच्छाकदम माना जा रहा है क्योंकि इस तरह के आयोजनों से न सिर्फ राज्य में खेल सुविधाएंतेजी से विकसित होंगी बल्कि देवभूमि के खिलाड़ियों को बेहतर मौका भी मिलेगा। राज्यमें अंतरराष्ट्रीय स्तर के एथलेटिक्स ट्रैक और मैदान का निर्माण इस बात सबूत हैंकि रावत सरकार ने खेल सुविधाओं के लिए अपना खजाना खोल दिया है।

देहरादून, हल्द्वानी और टिहरी में आयोजित होनेवाले राष्ट्रीय खेलों को सफल बनाने के तैयारियां जोरों पर हैं। मैदानों कोअंतरराष्ट्रीय स्तर का बनाया जा रहा है, साथ ही इन्फ्रास्ट्रक्चर पर भी फोकस है,ताकि खिलाड़ियों को किसी तरह की परेशानी न हो। खैर, तैयारियां कितनी कैसी चल रहीहैं, यह तो आने वाले वक्त में पता चल जाएगा। लेकिन साल 2018 में होने वालेराष्ट्रीय खेलों की मेजबानी का फायदा रावत सरकार कितना उठा पाती है, यह देखनादिलचस्प होगा। 


  

Todays Beets: