Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

सूबा,सूखा और सवाल

सूबा,सूखा और सवाल

उत्तराखंड में किसानों को इन दिनों मौसमकी मार झेलनी पड़ रही है। इस साल प्रदेश में बारिश नहीं होने के कारण काश्तकारोंकी फसल चौपट हो गयी है और उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है, हालात यह हैं कि किसानों के पास अपनीअगली फसल के लिए बीज की व्यवस्था करना भी मुश्किल हो गया है। इस सीजन में बारिश नहोने के कारण राज्य में गेहूं की फसल खराब हो रही है। जाड़ों के सीजन में अक्टूबरसे दिसंबर तक सामान्य रूप से 89 मिमी बारिश होती है, लेकिन इस मर्तबा इससे कम मिमी बारिशमापी गई। जनवरी तो अब तक बारिश के लिहाज से सूखा ही गुजरा। जाहिर है, इससे फसलों पर खतरा पैदा हो गया है।

सूखे के सित्तम से जूझ रहे राज्य मेंहालात धिरे-धिरे काबू से बाहर जाते जा रहे हैं। बारिश की आस में पल-पल आसमान की ओरनज़रें गड़ाए किसान यह उम्मीद लिए बैठा है कि अबतक मौसम की बेरूखी से जो नुकसानउसका हुआ है आखिर में उसकी भरपाई कर ली जाएगी। साथ ही उम्मीद की एक नज़र राज्यसरकार की ओर भी उठ रही है कि क्योंकि मौसम की मार के जो ज़ख्म उनके शरीर पर लग रहेहैं उनपर मुआवजे का मरहम लगाया जा सके।


राज्य में 95 में से 71 विकासखंडों मेंखेती बारिश पर निर्भर है। यानी समय पर बारिश हो गई तो ठीक, वरना बिन पानी सब सून। फिल्हाल, सूबे की कृषी योग्य ज़मीन बारिश न होनेके कारण सूखाग्रस्त है। ऐसे में बड़ा सवाल यह कि कैसे जिंदा रहें किसान ?

  

Todays Beets: