Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में परिसंपत्तियों पर पेंच बरकरार

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में परिसंपत्तियों पर पेंच बरकरार
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के बीच 15सालों से चला आ रह परिसंपत्तियों का मामला आज तक अनसुलझा है। इस मुद्दे को लेकरदोनों राज्यों के मुख्या कई बार एक टेबल पर बैठ चुके हैं, लेकिन वह औपचारिकताओं सेबाहर नहीं निकल पाए। यूपी के साथ सिंचाई, पेयजल और कई मामलों पर परिसंपत्तियोंका बंटवारा आज तक नहीं हो पाया। हालांकि सिंचाई विभाग की कुछ नहरें उत्तराखंड केहाथ आई हैं, लेकिनज्यादातर मामलों में बात नहीं बन पाई है। हरिद्वार की 3,321.495 हेक्टेयर भूमि, पौड़ी में पडऩे वाली ऋषिकेश मुनि कीरेती, कालागढ़समेत कई जगहें अब भी उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग के कब्जे में है, जिनपर सियासीपेंच बरकरार है।

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड केअपने-अपने प्रदेश संबंधी ड्राफ्ट पेश करने के बावजूद अब तक निस्तारण नहीं हो पायाहै। दोनों राज्यों के बीच परिसंपत्तियों का अब तक बंटवारा न हो पाने को सरकारीतंत्र की विफलता को दर्शाता है। वक्त-वक्त पर सियासी पार्टियों की तरफ से आवाजउठती रहती है कि अगर परिसंपत्तियों का विवाद जल्द नहीं सुलझ तो दूसरे राज्य केकब्जे वाली परिसंपत्तियों पर जबरन कब्जा किया जाएगा। लेकिन इस समस्या का समाधाननहीं होता। सरकारों की हीलाहवाली से उत्तराखंड की जनता को नुकसान हो रहा है।


 

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के बीचपरिसंपत्तियों का बंटवारा दोनों प्रदेशों के लिए जी का जंजाल बन गया है। जब इसमामले को लेकर दोनों राज्यों के सियासतदान सवालों के घेरे में आते हैं तोपरिसंपत्तियों के बंटवारे पर जल्द कोई हल निकालने वादा देकर चले जाते हैं, लेकिनहकिकत तो यह है कि पिछले 15 सालों से संपत्तियों के बंटवारे का मामला ज्यों कात्यों लटका पड़ा है।

  

Todays Beets: