Saturday, November 25, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

आखिर कानपुर के पास ही क्यों हो रहे ट्रेन हादसे, क्या जर्जर बुनियादी सुविधाएं हैं वजह! 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिर कानपुर के पास ही क्यों हो रहे ट्रेन हादसे, क्या जर्जर बुनियादी सुविधाएं हैं वजह! 

नई दिल्ली।भारत में इन दिनों रेल हादसों का सिलसिला जारी है। अभी तीन दिनों पहले ही कानपुर के रूरा में सियालदह-अमृतसर एक्सप्रेस के 15 डिब्बे पटरी से उतर गए। इसमें कईयों की मौत हो गई और 100 के करीब यात्री घायल हो गए। इससे कुछ दिनों पहले 20 नवंबर को कानपुर के करीब ही पुखरायां में एक ट्रेन हादसा हुआ था। उसमें भी काफी लोगों की जानें गई थीं। क्या हमने कभी सोचा है कि आखिर ये हादसे कानपुर के आसपास ही क्यों हो रहे हैं? 

बुलेट ट्रेन का सपना

हम सबको पता है कि रेल यातायात का सबसे सुरक्षित, सस्ता और आरामदायक साधन है। देश में इसे और बेहतर बनाने के लिए तेजी से काम किया जा रहा है। यहां तक की हम बुलेट ट्रेन की दिशा में भी काम कर रहे हैं। पर बुलेट ट्रेन शुरू करने के लिए हमारे पास बुनियादी जरूरतें हैं भी? रोज-रोज होते ट्रेन हादसे इस वजह को और भी मजबूत करता है। लगातार हो रहे रेल हादसे और वो भी कानपुर के आसपास ही, इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि ट्रेन को रफ्तार देने के लिए ये बेहद जरूरी है कि इसके लिए बुनियादी जरूरत यानी की पटरी को बेहतर बनाया जाए।


पटरी और पुलों की जर्जर हालत

बार-बार होते हादसों में यह बात उभरकर सामने आई कि कानपुर के आसपास के क्षेत्रों में पटरियों की हालत विशेष खराब है। इस इलाके में बने पुलों में दरारें आ गई हैं जिन्हें मरम्मत की खास दरकार है। ये सारी व्यवस्थाएं अंग्रेजों के जमाने की हैं। भारत में होने वाले रेल हादसों से लोगों का सबसे सुरक्षित आवागमन के साधन से भरोसा उठता जा रहा है। हादसे होने के बाद मंत्रालय की तरफ से हर बार मुआवजे की रकम बढ़ा दी जाती है लेकिन हादसा होने की वजह को दूर करने पर खास ध्यान नहीं दिया जाता है। ऐसे में बुलेट ट्रेन के सपने को हकीकत में तब्दील करने के लिए बुनियादी सुविधा का विकास जरूरी नहीं है क्या!   

Todays Beets: