Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

आखिर कानपुर के पास ही क्यों हो रहे ट्रेन हादसे, क्या जर्जर बुनियादी सुविधाएं हैं वजह! 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिर कानपुर के पास ही क्यों हो रहे ट्रेन हादसे, क्या जर्जर बुनियादी सुविधाएं हैं वजह! 

नई दिल्ली।भारत में इन दिनों रेल हादसों का सिलसिला जारी है। अभी तीन दिनों पहले ही कानपुर के रूरा में सियालदह-अमृतसर एक्सप्रेस के 15 डिब्बे पटरी से उतर गए। इसमें कईयों की मौत हो गई और 100 के करीब यात्री घायल हो गए। इससे कुछ दिनों पहले 20 नवंबर को कानपुर के करीब ही पुखरायां में एक ट्रेन हादसा हुआ था। उसमें भी काफी लोगों की जानें गई थीं। क्या हमने कभी सोचा है कि आखिर ये हादसे कानपुर के आसपास ही क्यों हो रहे हैं? 

बुलेट ट्रेन का सपना

हम सबको पता है कि रेल यातायात का सबसे सुरक्षित, सस्ता और आरामदायक साधन है। देश में इसे और बेहतर बनाने के लिए तेजी से काम किया जा रहा है। यहां तक की हम बुलेट ट्रेन की दिशा में भी काम कर रहे हैं। पर बुलेट ट्रेन शुरू करने के लिए हमारे पास बुनियादी जरूरतें हैं भी? रोज-रोज होते ट्रेन हादसे इस वजह को और भी मजबूत करता है। लगातार हो रहे रेल हादसे और वो भी कानपुर के आसपास ही, इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं कि ट्रेन को रफ्तार देने के लिए ये बेहद जरूरी है कि इसके लिए बुनियादी जरूरत यानी की पटरी को बेहतर बनाया जाए।


पटरी और पुलों की जर्जर हालत

बार-बार होते हादसों में यह बात उभरकर सामने आई कि कानपुर के आसपास के क्षेत्रों में पटरियों की हालत विशेष खराब है। इस इलाके में बने पुलों में दरारें आ गई हैं जिन्हें मरम्मत की खास दरकार है। ये सारी व्यवस्थाएं अंग्रेजों के जमाने की हैं। भारत में होने वाले रेल हादसों से लोगों का सबसे सुरक्षित आवागमन के साधन से भरोसा उठता जा रहा है। हादसे होने के बाद मंत्रालय की तरफ से हर बार मुआवजे की रकम बढ़ा दी जाती है लेकिन हादसा होने की वजह को दूर करने पर खास ध्यान नहीं दिया जाता है। ऐसे में बुलेट ट्रेन के सपने को हकीकत में तब्दील करने के लिए बुनियादी सुविधा का विकास जरूरी नहीं है क्या!   

Todays Beets: