Monday, December 16, 2019

Breaking News

   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||   दिल्ली: राजनाथ सिंह के सामने आया शख्स, पीएम मोदी से मिलाने की मांग की     ||   उत्तराखंड के बद्रीनाथ में भारी हिमपात , तापमान माइनस पर पहुंचा    ||   नेपालः कास्की में कम्युनिस्ट पार्टी के बैठक स्थल के पास पार्किंग में धमाका     ||   राम मंदिर मामले में रिव्यू याचिका दायर करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड     ||   दिल्ली हाईकोर्ट ने मालविंदर सिंह और सुनील गोड़वानी को एक दिन की ED हिरासत में भेजा     ||   बीजेपी ने पार्टी महासचिव अरुण सिंह को यूपी से राज्यसभा उम्मीदवार बनाया     ||   पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 11 दिसंबर तक बढ़ाई गई     ||   INX मीडिया केस: पी चिदंबरम को झटका, दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका     ||   वकील VS पुलिस मामला: HC ने कहा- जांच पूरी होने तक पुलिस पक्ष से नहीं होगी गिरफ्तारी     ||

चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

रांची। आमतौर पर चोरी के मामले में पकड़े जाने पर पुलिस और न्यायालय से सजा का प्रावधान है। ऐसे मामलों में आरोप सिद्ध होने पर जुर्माना या जेल की सजा दी जाी है लेकिन क्या आपको पता है कि झारखंड के तोपचांची इलाके में रहने वाले आदिवासियों का ऐसे मामले में सजा के तौर पर ‘हरिया’ (स्थानीय शराब) देना पड़ता है। बताया जा रहा है कि धनबाद जिले में पड़ने वाले इस इलाके के आदिवासी कभी भी अपने समुदायों में होने वाले ऐसे मामलों के लिए पुलिस के पास नहीं जाते हैं।

गौरतलब है कि इन आदिवासियों का कहना है कि अपराध की प्रकृति के आधार पर ही सजा का ऐलान किया जाता है। आदिवासियों का कहना है कि मामूली चोरी के लिए 3 बोतल हरिया जुर्माने के तौर पर देना पड़ता है वहीं बड़ी चोरी के लिए 5 बोतल हरिया के जुर्माने का प्रावधान रखा गया है। बड़ी बात यह है कि इन लोगों में से कोई भी सजा या जुर्माने का विरोध नहीं करता है। 

ये भी पढ़ें - पति ने अपनाया पत्नी से छुटकारा पाने का अनोखा उपाय, रखा वट सावित्री का व्रत


यहां बता दें कि अभी हाल ही में इस समुदाय के एक शख्स को चोरी के सिलसिले में 3 मुर्गियां और 2 बोतल हरिया का जुर्माना देना पड़ा था। बताया जा रहा है कि इस इलाके में रहने वाले आदिवासी समुदाय में सालों से यह प्रथा चली आ रही है और कोई भी इसका विरोध नहीं करता है। 

 

Todays Beets: