Thursday, September 24, 2020

Breaking News

   कप्तान धोनी ने IPL2020 की शुरुआत जीत से की,जानिये कैसे ?     ||   लखनऊ: यूपी में आकाशीय बिजली से हुई मौत के मामले में परिजनों को 4 लाख मुआवजा     ||   कोरोना काल में भाजपा सरकार ने अनेक ख्याली पुलाव पकाए, लेकिन एक सच भी था? -राहुल गांधी     ||   पिछले 6 महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं: राज्यसभा में गृह मंत्रालय का बयान     ||   राजस्थान: बूंदी में चंबल नदी में नाव डूबने से 6 लोगों की मौत, 12 लोगों को रेस्क्यू किया गया     ||   मुंबई: बच्चन परिवार को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराएगी मुंबई पुलिस     ||   राज्यसभा में BJP MP विनय सहस्रबुद्धे का बयान, महाराष्ट्र सरकार ही अवैध निर्माण का प्रतीक     ||   ग्रीनलैंड में सबसे बड़ा ग्लेशियर टूटा, चंडीगढ़ के बराबर बर्फ की चट्टान समुद्र में     ||   किसान बिल के विरोध पर बोले नड्डा- कांग्रेस पहले समर्थन में थी, अब राजनीति कर रही     ||   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||

चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चोरी के मामले में पकड़े जाने पर देना पड़ता है 5 बोतल ‘हरिया’, जानें कौन सी है यह जगह

रांची। आमतौर पर चोरी के मामले में पकड़े जाने पर पुलिस और न्यायालय से सजा का प्रावधान है। ऐसे मामलों में आरोप सिद्ध होने पर जुर्माना या जेल की सजा दी जाी है लेकिन क्या आपको पता है कि झारखंड के तोपचांची इलाके में रहने वाले आदिवासियों का ऐसे मामले में सजा के तौर पर ‘हरिया’ (स्थानीय शराब) देना पड़ता है। बताया जा रहा है कि धनबाद जिले में पड़ने वाले इस इलाके के आदिवासी कभी भी अपने समुदायों में होने वाले ऐसे मामलों के लिए पुलिस के पास नहीं जाते हैं।

गौरतलब है कि इन आदिवासियों का कहना है कि अपराध की प्रकृति के आधार पर ही सजा का ऐलान किया जाता है। आदिवासियों का कहना है कि मामूली चोरी के लिए 3 बोतल हरिया जुर्माने के तौर पर देना पड़ता है वहीं बड़ी चोरी के लिए 5 बोतल हरिया के जुर्माने का प्रावधान रखा गया है। बड़ी बात यह है कि इन लोगों में से कोई भी सजा या जुर्माने का विरोध नहीं करता है। 

ये भी पढ़ें - पति ने अपनाया पत्नी से छुटकारा पाने का अनोखा उपाय, रखा वट सावित्री का व्रत


यहां बता दें कि अभी हाल ही में इस समुदाय के एक शख्स को चोरी के सिलसिले में 3 मुर्गियां और 2 बोतल हरिया का जुर्माना देना पड़ा था। बताया जा रहा है कि इस इलाके में रहने वाले आदिवासी समुदाय में सालों से यह प्रथा चली आ रही है और कोई भी इसका विरोध नहीं करता है। 

 

Todays Beets: