Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

अब आसमान में दिखेगा एक और सूरज, असली सूरज से होगा 6 गुना ज्यादा गर्म

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब आसमान में दिखेगा एक और सूरज, असली सूरज से होगा 6 गुना ज्यादा गर्म

नई दिल्ली। आसमान में मौजूद एक सूरज ही गर्मी के दिनों में लोगों के पसीने छुड़ा देता है ऐसे में अगर आकाश में एक और सूरज निकल आए तो क्या हाल होगा इसका अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है। यह बात सच है कि चीन जल्द ही एक कृत्रिम सूरज तैयार करने में जुटा हुआ है। यह सूरज असली सूरज की तुलना में 6 गुना ज्यादा गर्मी पैदा करेगा। चीन का कहना है कि स्वच्छ ऊर्जा पैदा करने के मकसद से इस सूरज का निर्माण किया जा रहा है।

गौरतलब है कि चीन की एकेडमी ऑफ साइंस से जुड़े इंस्टीट्यूट ऑफ प्लाजमा फिजिक्स में इसका परीक्षण किया जा रहा है। इस सूरज को एक्सपेरिमेंटल सुपरकंडक्टिंग टोकामक नाम दिया गया है। बताया जा रहा है कि इसकी बनावट एक खोखले डब्बे की तरह तरह है जिसमें न्यूक्लियर फ्यूजन (परमाणु के विखंडन) के जरिए गरमी पैदा की जा सकती है। हालांकि इसे एक दिन के लिए चालू करने का खर्च 15 हजार डॉलर (करीब 11 लाख रुपए) है। फिलहाल इस मशीन को चीन के अन्हुई प्रांत स्थित साइंस द्वीप में रखा गया है। 

ये भी पढ़ें - स्पेसएक्स ने किया चंद्रमा पर जाने वाले पहले यात्री का ऐलान, जापानी अरबपति युसाकू माएजावा करें...


गौर करने वाली बात है कि असली सूरज का कोर करीब 1.50 करोड़ डिग्री सेल्सियस तक गरम होता है, वहीं चीन का यह नया सूरज 10 करोड़ डिग्री सेल्सियस तक की गरमी पैदा कर सकेगा। यह सौर मंडल के मध्य में स्थित किसी तारे की तरह ही ऊर्जा का भंडार उपलब्ध कराएगा। चीन द्वारा तैयार किया जा रहा कृत्रिम सूरज भले ही स्वच्छ ऊर्जा मुहैया कराने के लिए तैयार किया जा रहा हो लेकिन इससे निकलने वाले जहरीला कचरा  इंसानों के लिए काफी खतरनाक होगा।  

 

Todays Beets: