Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

भारतीय मूल की दीप्ति ने तैयार किए स्मार्ट मोजे, पैरों की चोट में मिलेगी राहत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारतीय मूल की दीप्ति ने तैयार किए स्मार्ट मोजे, पैरों की चोट में मिलेगी राहत

नई दिल्ली। नई चीजों के आविष्कार की प्रेरणा किसी को कहां से मिल जाए इसके बारे में कहा नहीं जा सकता है। आॅस्ट्रेलिया में शोध कर रही भारतीय मूल की छात्रा दीप्ति अग्रवाल ने अपने पिता के पैरों में लगी चोट से प्रेरणा लेते हुए एक ऐसे मोजे का आविष्कार किया जिससे इंसानों के पैरों में लगी चोट के बारे में जानकारी देगी। उन्होंने इस मोजे का नाम ‘सोफी’ दिया है। बताया जा रहा है कि इस मोजे में तीन सेंसर लगे हुए हैं इसके पहनने के बाद शरीर के वजन के आधार पर मामूली से मामूली चोटों की जानकारी फिजियोथैरेपिस्ट को मिल सकती है। 

गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया में स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग में पीएचडी स्कॉलर दीप्ति अग्रवाल ने ‘स्मार्ट मोजे’ विकसित किए हैं। भारतीय मूल की दीप्ती अग्रवाल ने बताया कि वह कुछ ऐसा बनाना चाहती थी जिससे सुदूरवर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों को मामूली चोटों के इलाज के लिए शहरों का रुख न करना पड़े। बता दें कि दीप्ती को स्मार्ट मोजे बनाने का विचार अपने पिता के पैरों में लगी चोट के बाद आया जिसकी वजह से वह इलाज के लिए शहर जाने से असमर्थ हो गए थे। 


ये भी पढ़ें - जापान में 19.84 लाख के बिके दो खरबूजे, जानिए क्या है इन दो खरबूजों का सच

यहां बता दें कि दीप्ति ने इस मोजे का नाम सोफी रखा है। इसमें एक तकनीक के जरिए छोटा उपकरण लगाया गया है जो रोगी के पैरों के निचले हिस्से की रीयल टाइम जानकारी प्रदान कराता है। उन्होंने कहा कि इन मोजों की मदद फिजियोथेरेपिस्ट को आसानी होगी। इसका कारण है कि इसकी मदद से पैरों के तलवे की बारीक से चोट एवं अवस्थता का पता चल सकेगा। वह कुछ ऐसा बनाना चाहती थीं जिससे की पैरों के तलवे के बारे में भी सूक्ष्म से सूक्ष्म बीमारी का पता चल सके ताकि इससे आग चलकर मरीजों का बेहतर तरीके से इलाज हो सके। 

Todays Beets: