Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

भारतीय मूल की दीप्ति ने तैयार किए स्मार्ट मोजे, पैरों की चोट में मिलेगी राहत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारतीय मूल की दीप्ति ने तैयार किए स्मार्ट मोजे, पैरों की चोट में मिलेगी राहत

नई दिल्ली। नई चीजों के आविष्कार की प्रेरणा किसी को कहां से मिल जाए इसके बारे में कहा नहीं जा सकता है। आॅस्ट्रेलिया में शोध कर रही भारतीय मूल की छात्रा दीप्ति अग्रवाल ने अपने पिता के पैरों में लगी चोट से प्रेरणा लेते हुए एक ऐसे मोजे का आविष्कार किया जिससे इंसानों के पैरों में लगी चोट के बारे में जानकारी देगी। उन्होंने इस मोजे का नाम ‘सोफी’ दिया है। बताया जा रहा है कि इस मोजे में तीन सेंसर लगे हुए हैं इसके पहनने के बाद शरीर के वजन के आधार पर मामूली से मामूली चोटों की जानकारी फिजियोथैरेपिस्ट को मिल सकती है। 

गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया में स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग में पीएचडी स्कॉलर दीप्ति अग्रवाल ने ‘स्मार्ट मोजे’ विकसित किए हैं। भारतीय मूल की दीप्ती अग्रवाल ने बताया कि वह कुछ ऐसा बनाना चाहती थी जिससे सुदूरवर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों को मामूली चोटों के इलाज के लिए शहरों का रुख न करना पड़े। बता दें कि दीप्ती को स्मार्ट मोजे बनाने का विचार अपने पिता के पैरों में लगी चोट के बाद आया जिसकी वजह से वह इलाज के लिए शहर जाने से असमर्थ हो गए थे। 


ये भी पढ़ें - जापान में 19.84 लाख के बिके दो खरबूजे, जानिए क्या है इन दो खरबूजों का सच

यहां बता दें कि दीप्ति ने इस मोजे का नाम सोफी रखा है। इसमें एक तकनीक के जरिए छोटा उपकरण लगाया गया है जो रोगी के पैरों के निचले हिस्से की रीयल टाइम जानकारी प्रदान कराता है। उन्होंने कहा कि इन मोजों की मदद फिजियोथेरेपिस्ट को आसानी होगी। इसका कारण है कि इसकी मदद से पैरों के तलवे की बारीक से चोट एवं अवस्थता का पता चल सकेगा। वह कुछ ऐसा बनाना चाहती थीं जिससे की पैरों के तलवे के बारे में भी सूक्ष्म से सूक्ष्म बीमारी का पता चल सके ताकि इससे आग चलकर मरीजों का बेहतर तरीके से इलाज हो सके। 

Todays Beets: