Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

यहां लोगों को नाम नहीं बल्कि संगीत की धुन से बुलाते हैं, जानें इस जगह के बारे में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यहां लोगों को नाम नहीं बल्कि संगीत की धुन से बुलाते हैं, जानें इस जगह के बारे में

नई दिल्ली। जब भी हमें किसी को बुलाना होता है तो उसके नाम से बुलाते हैं। क्या आपने ऐसी जगहों के बारे में सुना है जहां लोगों को संगीत की धुन के आधार पर बुलाया जाता है। शायद आप यह सुनकर हैरान हो गए होंगे कि संगीत की धुन से किसी को कैसे बुलाया जा सकता है। आइए हम आपको आज भारत उत्तरपूर्व राज्य में स्थित एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जहां लोगों को संगीत की धुन से बुलाया जाता है।

गौरतलब है कि यह जगह स्थित है उत्तरपूर्वी राज्य मेघालय में है। इस गांव का नाम है ‘‘कॉन्गथॉन्ग’’। यह एक ऐसा गांव है जहां हर कोई एक दूसरे को कोई खास धुन या संगीत के माध्यम से बुलाता है। यहां के जंगलों में सुनाई देने वाली विभिन्न प्रकार की धुन और चहचहाहट की गूंज वाली आवाज लोग निकालते हैं। वह एक विभिन्न प्रकार की सीटी बजाते हैं। यह इस गांव की परंपरा है। 

यहां बता दें कि इस गांव में बच्चे के जन्म के बाद उसकी मां एक खास धुन बजाती है और उस बच्चे को उम्रभर उसी धुन से बुलाया जाता है। ऐसा नहीं है कि यहां बच्चों के नाम नहीं होते हैं पर कोई गलती करने पर ही उसे उसके नाम से बुलाया जाता है। मेघालय के जंगलों में बसने वाले लोग यहां मिलने वाले सामानों से ही जिंदगी गुजारते हैं। 


ये भी पढ़ें - स्पेसएक्स ने किया चंद्रमा पर जाने वाले पहले यात्री का ऐलान, जापानी अरबपति युसाकू माएजावा करें...

आपको बता दें कि साल 2000 में यहां बिजली पहुंची है और यहां तक पहुंचने के लिए कच्चा रास्ता भी 2013 में बनाया गया है। यहां के रहने वाले खांगसित कहते हैं कि हम जंगलों के बीच चारों ओर से पहाड़ियों से घिरी हुई जगह में रहते हैं। जिस संगीत की धुन से लोग एक दूसरे को पुकारते हैं वह 30 सेकेंड तक लंबी होती है लेकिन सब प्रकृति से प्रेरित हैं और ईश्वर की बनाई इस अनोखी दुनिया में खुश हैं। यहां रहने वाले खासी समुदाय के लोगों को इस बात का पता नहीं है कि संगीत की धुन के जरिए बुलाने की परंपरा की शुरुआत कब हुई लेकिन उन्होंने कहा उनका मानना है कि गांव की स्थापना के समय से ही यह परंपरा चली आ रही है। 

गौर करने वाली बात है कि कॉन्गथॉन्ग में रहने वाला खासी समुदाय इस परंपरा को जींगरवई लॉवई के नाम से संबोधित करता है इसका मतलब कबीले की पहली महिला का संगीत है। 

Todays Beets: