Thursday, November 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

कार्तियानी अम्मा ने 96 साल की उम्र में किया टाॅप, 100 में से 98 अंक किए हासिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कार्तियानी अम्मा ने 96 साल की उम्र में किया टाॅप, 100 में से 98 अंक किए हासिल

तिरूवनतंपुरम। आमतौर पर उम्रदराज बुजुर्गों से यही आशा की जाती है कि वे स्वस्थ रहें और ईश्वर का नाम लेते रहें। कुछ ऐसे बुजुर्ग भी हैं जिनके लिए उम्र महज एक नंबर है और वे अपने कामों से दूसरों के लिए एक मिसाल बने हुए हैं। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है केरल के अलाफुजा की रहने वाली कार्तियानी अम्मा ने। जी हां, कार्तियानी अम्मा ने 96 साल की उम्र में केरल सरकार द्वारा शुरू की गई साक्षरता मिशन ‘अक्षरालाक्षम’ की परीक्षा में 100 में 98 अंक हासिल कर टाॅप किया है। 

गौरतलब है कि केरल सरकार ने गणतंत्र दिवस के मौके केरल राज्य साक्षरता मिशन अथॉरिटी ने ‘‘अक्षरालाक्षम’’ परियोजना शुरू की थी जिसका उद्देश्य केरल में 100 फीसदी साक्षरता करना है। इसके जरिए आदिवासियों, मछुआरों और गरीब लोगों के बीच साक्षरता का प्रचार प्रसार किया जा रहा है। इस योजना के तहत आयोजित परीक्षा में 96 साल की कार्तियानी अम्मा ने 100 में से 98 अंक हासिल कर पूरे राज्य में टाॅप किया है। 

ये भी पढ़ें - उत्तरकाशी में स्थित यह तालाब है रहस्य का केंद्र, ताली बजाने से उठते हैं बुलबुले


यहां बता दें कि गुरुवार को केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने उन्हंे प्रमाण पत्र देकर उनका सम्मान किया। आपको बता दें कि इस परीक्षा में 43 हजार 933 परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया था जिसमें से 42500 से ज्यादा लोगों ने सफलता हासिल की है।  इस परीक्षा में ऐसे लोगों को शामिल किया जाता है जिन्होंने किसी वजह से अपनी पढ़ाई छोड़ दी या कभी स्कूल नहीं गए।

आपको बता दें कि परीक्षा में इन लोगों के लिखने, पढ़ने और बेसिक गणित का टेस्ट लिया जाता है। बड़ी बात यह है कि कार्तियानी अम्मा कभी भी स्कूल नहीं गईं और उन्होंने अपनी 51 वर्षीय बेटी से प्रेरणा लेकर पढ़ाई शुरू की और आज पूरे राज्य में टाॅप किया। गौर करने वाली बात है कि कार्तियानी अम्मा ने जिस परीक्षा में टाॅप किया है वह 10वीं के समकक्ष है। 

Todays Beets: