Thursday, April 2, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

आखिर क्यों फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद तोड़ दी जाती है पेन की निब, जानें वजह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिर क्यों फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद तोड़ दी जाती है पेन की निब, जानें वजह

नई दिल्ली। अभी तक आपने फिल्मों में यह देखा होगा कि अदालत से किसी कैदी या अपराधी को फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद जज पेन की निब को तोड़ देते हैं। आपको पता है कि ऐसा क्यों किया जाता है, नहीं, तो चलिए हम आपको बता देते हैं कि ‘हैंग टिल डेथ’ कहने के बाद पेन की निब क्यों तोड़ी जाती है। सबसे पहले आपको यह बता दें कि जज द्वारा ऐसा करने का प्रचलन सिर्फ भारत में ही है। 

गौरतलब है कि भारतीय कानून में अपराधी के दंड की सबसे बड़ी सजा फांसी है। रेयर ऑफ रेयरेस्ट केस में ही मुजरिम को फांसी की सजा सुनाए जाने का प्रावधान है। जिस भी व्यक्ति का अपराध जघन्य अपराध की श्रेणी में आता हो, उसे ही मौत की सजा सुनाई जा सकती है। ऐसे में अगर जज के द्वारा एक बार फांसी की सजा सुना दी जाती है तो उसे बदला नहीं जा सकता है, हां ऐसा करने का अधिकार सिर्फ राष्ट्रपति का होता है। राष्ट्रपति अपने विवेक और ज्ञान के आधार पर अपराधी को क्षमा भी कर सकते हैं।  

ये भी पढ़ें - अमेरिका के एक रेस्टोरेंट ने तैयार किया वैलेंटाइल डे स्पेशल बर्गर, लाख रुपये चुकानी होगी कीमत


यही वजह है कि जिस पेन से मौत लिखा जाता है उसकी निब तोड़ दी जाती है। यह भी माना जाता है कि अगर फैसले के बाद पेन की निब तोड़ी जा चुकी है, तो इसके बाद खुद उस जज को भी यह अधिकार नहीं होता है की वो दोबारा उस फैसले को बदलने के बारे में सोच सके। पेन की निब टूट जाने के बाद इस फैसले पर दोबारा विचार भी नहीं किया जा सकता।

 

Todays Beets: